scriptRajasthan Congress will have open session in the month of January | अब कांग्रेस कार्यकर्ताओं के सुझावों से चलेगी गहलोत सरकार, जनवरी में होगा खुला अधिवेशन | Patrika News

अब कांग्रेस कार्यकर्ताओं के सुझावों से चलेगी गहलोत सरकार, जनवरी में होगा खुला अधिवेशन

-16 से 18 जनवरी तक एआईसीसी और पीसीसी मेंबर का खुला अधिवेशन प्रस्तावित,अधिवेशन में सरकार की कमियों और उपलब्धियों पर होगी चर्चा, सुझावों का प्रस्ताव पास कर सौंपा जाएगा सरकार को

जयपुर

Updated: December 29, 2021 11:10:03 am

जयपुर। प्रदेश में 2 साल के बाद साल 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सत्ता और संगठन अब एक्टिव मोड में हैं। पार्टी कार्यकर्ताओं की नाराजगी कम करने और उनको सरकार में अहमियत देने के लिए सत्ता और संगठन की तरफ से हर संभव कोशिश की जा रही है।

pcc jaipur
pcc jaipur

कार्यकर्ताओं की नाराजगी दूर करने के लिए जहां पहले प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में मंत्री दरबार कार्यक्रम शुरू किया गया। 26 से 28 दिसंबर तक प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया तो वहीं अब सरकार में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के सुझावों पर अमल किया जाए इसे लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का तीन दिवसीय खुला अधिवेशन भी अगले माह प्रस्तावित है। खुले अधिवेशन में कांग्रेस कार्यकर्ता सरकार की कमियां गिनाने के साथ-साथ सरकार को सुझाव भी देंगे की सरकार सरकार को किन-किन योजनाओं में किस प्रकार से काम करना चाहिए जिससे आम जनता को फायदा मिले।

16 से 18 जनवरी तक होगा खुला अधिवेशन
बताया जाता है कि प्रदेश कांग्रेस की ओर से 16 से 18 जनवरी तक जयपुर में खुला अधिवेशन का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें एआईसीसी मेंबर और पीसीसी मेंबर को आमंत्रित किया जाएगा। तीन दिवसीय इस खुले अधिवेशन में एआईसीसी और पीसीसी मेंबर सरकार के कामकाज को लेकर अपने अपने सुझाव रखेंगे।

इस अधिवेशन में प्रदेश प्रभारी अजय माकन, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा मौजूद रहेंगे। खुले अधिवेशन में एआईसीसी मेंबर सरकार के 3 साल के कामकाज, योजनाएं और उपलब्धियों पर चर्चा करेंगे और कहीं अगर सरकार के कामकाज में खामी नजर आती है तो उसे भी खुले मंच पर रखेंगे।

सुझावों का प्रस्ताव होगा पास
3 दिन चलने वाले खुले अधिवेशन में एआईसीसी-पीसीसी मेंबर्स की तरफ से आने वाले सुझाव का एक प्रस्ताव तैयार किया जाएगा और अधिवेशन के अंतिम दिन प्रस्ताव को सामूहिक रूप से पारित किया जाएगा और फिर उसे सरकार को सौंपा जाएगा। प्रस्ताव के मुताबिक ही फिर आगे सरकार अपना कामकाज और लक्ष्य तय करेगी।

इसलिए हो रहा खुला अधिवेशन
सूत्रों की माने तो खुला अधिवेशन होने की वजह यह भी है कि कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और नेताओं को लगना चाहिए कि सरकार उनके सुझावों के मुताबिक काम कर रही है। ऐसे में कार्यकर्ताओं को भी लगेगा कि सरकार में उनकी भागीदारी है। वैसे भी जनता के बीच में कांग्रेसी कार्यकर्ता जाते हैं। जनता सरकार के कामकाज से खुश है या नाराज है या फिर कौन सी ऐसी योजना है जिसका लाभ जनता को नहीं मिल पा रहा।

इसका वास्तविक फीडबैक कांग्रेस कार्यकर्ता ही दे सकता है। यही वजह है कि सरकार के 3 साल बीतने के बाद भले ही सरकारी मशीनरी सरकार की वाहवाही करने में जुटी हो लेकिन वास्तविक स्थिति का आंकलन कांग्रेस कार्यकर्ताओं से बेहतर कोई नहीं बता सकता।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: आज इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का PM Modi करेंगे लोकार्पणदिल्ली में जनवरी में बारिश का पिछले 32 साल का रिकॉर्ड ध्वस्त, ठंड से छूटी कंपकंपी, एयर क्वालिटी में सुधारCovid-19 Update: भारत में कोरोना के 3.37 लाख नए मामले, मौत के आंकड़ों ने तोड़े सारे रिकॉर्डUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारU19 World Cup: कौन है 19 साल का लड़का Raj Bawa? जिसने शिखर धवन को पछाड़ रचा इतिहासAjmer Urs : 1 फरवरी को उतरेगा संदल, 2 को खुलेगा जन्नती दरवाजाUP Top News: उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा विभाग शिक्षक पात्रता परीक्षा आज, दो पालियों में परीक्षाबेहद खतरनाक है ओमिक्रोन, इस अंग को कर रहा खराब, जानिए कैसे करें बचाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.