जयपुर में छह साल की मासूम से बलात्कार और हत्या के दोषी को सजा-ए-मौत

फागी कस्बे में छह साल की मासूम के साथ बलात्कार एवं हत्या, आठ साल बाद आया फैसला, दूद अदालत ने अभियुक्त को सुनाई मृत्युदंड की सजा

देवेन्द्र शर्मा / जयपुर। 8 साल पहले फागी इलाके में घर में घुसकर छह वर्षीय मासूम से बलात्कार और हत्या करने के मामले में अपर सेशन न्यायालय दूदू ने अभियुक्त को मृत्युदंड की सजा से दंडि़त किया है। न्यायाधीश शिल्पा समीर ने अभियुक्त चाकसू निवासी महेन्द्र कुमार उर्फ धर्मेन्द्र कुमार (27) को बलात्कार, हत्या, गृह अतिचार एवं चोरी का दोषी मानते हुए मृत्युदंड के अतिरिक्त 8.20 लाख रुपए के जुर्माने का लगाया है।

यह था मामला
21 मई 2011 को पीडि़ता के पिता ने फागी थाने में रिपोर्ट दी थी कि वह सुबह पत्नी के साथ मजदूरी पर गए थे। शाम को लौटे तो घर पर पुत्री व बकरा नहीं था। जानकारों के कहने पर वह थाने जा रहा था। पीछे से परिचितों ने कच्चे मकान के कमरे को खोलकर देखा तो बच्ची मृत पड़ी मिली। उसके गले पर सूतली बंधी हुई थी। बच्ची से बलात्कार, हत्या और चोरी की पुष्टि के बाद पुलिस ने जांच शुरू की। बच्ची के साथ बलात्कार और हत्या के बाद आरोपी घर से उनका एक बकरा एवं घी की कैन चुराकर ले गया था। जिसे गांव में कई लोगों ने देखा था। पुलिस ने बाद में उसे गिरफ्तार कर लिया था।

ताकि अपराधियों में भय हो
कोर्ट ने कहा कि मृतका का सम्मान नहीं लाया जा सकता, लेकिन कायम रखने के लिए, सम्मान की रक्षा के लिए जरूरी है कि बर्बरता से किए गए अपराध के अपराधी को सख्त सजा से दंंडि़त करना न्यायालय का दायित्व है, जिससे अपराधियों में भय व्याप्त हो सकें। कोर्ट ने अभियुक्त को चोरी में सात वर्ष कठोर कारावास, 20 हजार रुपए, गृह अतिचार में 10 वर्ष कठोर कारावास, 1 लाख रुपए, बलात्कार में जीवन पर्यन्त आजीवन कठोर कारावास, दो लाख रुपए और हत्या में मृत्यु दंड एवं 5 लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है।

घी की केतली, बकरा, बाल और दो घंटे का अंतराल बने सजा का आधार
पीडि़ता के घर से वारदात के बाद अभियुक्त बकरा एवं घी की केतली चुरा कर ले गया था। बकरा उसने बेच दिया था और केतली एक दुकान पर रख दी थी। जिसे वह वापस लेने नहीं आया था। गवाहों ने अपने बयानों में उसे इसके साथ देखा और अभियुक्त की निशानदेही पर दोनों चीजें बरामद भी हुईं। वहीं घटनास्थल और हत्या में प्रयुक्त सूतली पर मिले बाल से अभियुक्त का डीएनए मिल गया। इसके साथ ही अभियुक्त का पीडि़ता के साथ दो घंटे पहले देखे जाना भी सजा का आधार बना है।

pushpendra shekhawat
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned