scriptRajasthan Government Diwali Gift For Household In State Big Benifit | दिवाली से पहले लोगों की बल्ले-बल्ले, सरकार ने दी यह बड़ी राहत | Patrika News

दिवाली से पहले लोगों की बल्ले-बल्ले, सरकार ने दी यह बड़ी राहत

पितृपक्ष खत्म होने के साथ ही दिवाली सीजन शुरू होने वाला है। बाजार लोगों से गुलजार होंगे और खरीदारी अपने चरम पर होगी। मगर पितृपक्ष में ही सरकार ने पट्टा चाहने वाले लोगों को बड़ा तोहफा दिया है।

जयपुर

Published: September 12, 2022 01:40:04 pm

पितृपक्ष खत्म होने के साथ ही दिवाली सीजन शुरू होने वाला है। बाजार लोगों से गुलजार होंगे और खरीदारी अपने चरम पर होगी। मगर पितृपक्ष में ही सरकार ने पट्टा चाहने वाले लोगों को बड़ा तोहफा दिया है। सरकार ने प्रशासन शहरों के संग अभियान में सरकारी और अवाप्तशुदा भूखंड धारियों को बड़ी राहत दी है। इस राहत से प्रदेश के हजारों भूखंडधारियों को अपनी जेब कम ढीली करनी पड़ेगी। नए आदेश के अनुसार 300 वर्ग मीटर तक के भूखंडों पर अब लीज राशि की गणना आरक्षित दर की बजाय आवंटन दर पर होगी। सरकार को उम्मीद है कि इस बदलाव से पट्टा लेने वाले लोगों की संख्या में इजाफा होगा।

दरअसल अभियान से पहले 300 वर्ग मीटर तक के भूखंडों पर आवासीय आरक्षित दर का 25 फीसदी राशि लेकर पट्टे दिए जा रहे थे। लेकिन अभियान शुरू होने पर लोगों ने इस राशि को ज्यादा बताया जिसकी वजह से सरकार ने राहत देते हुए नियमन राशि में भारी छूट दी। इसके तहत आवासीय आरक्षित दर या डीएलसी दर के 10 फीसदी जो भी कम हो पर भूखंडों का नियमन करने का तोहफा जनता को दिया गया। मगर लीज राशि मे विसंगति रह गयी। जिसे अब दूर किया गया है।

जनता को यूं मिलेगी राहत

सरकार ने भले ही नियमन के लिए डीएलसी दर का 10 फ़ीसदी तय किया हो लेकिन लीज अब भी आवासीय आरक्षित दर के 2.5 फीसदी के आधार पर ही वसूली जा रही थी। जिस पर निकाय अधिकारियों ने सरकार को राय दी कि जब तक यह राशि कम नहीं की जाएगी पदों की संख्या में बढ़ोतरी नहीं होगी। अधिकारियों की राय के आधार पर सरकार ने इसमें संशोधन किया है और अब आवंटन दर के अनुसार लीज राशि वसूली जाएगी। संबंध में यूडीएच और एलएसजी ने आदेश जारी कर दिए हैं।

यह भी पढ़ें

सोशल मीडिया पर राजस्थान के ताकतवर नेता, जानिए कौन-कौन हैं फेहरिस्त में शामिल




फायदे का गणित समझे

मान लिया जाए की एक भूखंड की आरक्षित दर 1000 रुपए वर्गमीटर है। तो लीज राशि की गणना 1000 के 2.5 फ़ीसदी सालाना के अनुसार की जा रही थी। इस हिसाब से भूखंडधारी को सालाना 7500 रुपए लीज के देने पड़ रहे थे। अगर उसे फ्रीहोल्ड का पट्टा चाहिए तो यह राशि 10 साल की लीज के हिसाब से 75000 रुपए चुकानी पड़ रही थी। सरकार ने इसमें 90 फ़ीसदी की कमी कर दी है। अब आवंटन दर के आधार पर यह राशि सालाना महज 750 रुपए पड़ रही है। वही फ्री होल्ड का पट्टा लेने के लिए केवल 7500 रुपए देने पड़ेगे।
दिवाली से पहले लोगों की बल्ले-बल्ले, हजारों रुपए का होगा फायदा
दिवाली से पहले लोगों की बल्ले-बल्ले, हजारों रुपए का होगा फायदा

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Indian Navy और NCB का समंदर में बड़ा एक्शन, पाकिस्तानी नाव से जब्त की 200 किलो हेरोइनआतंकवाद और सांप्रदायिक हिंसा के कारण पाकिस्तान यात्रा पर फिर से करें विचार, अमरीका ने जारी की एडवाइजरीदिल्ली शराब नीति घोटाला: दिल्ली-पंजाब-हैदराबाद में 35 ठिकानों पर ED के छापेMumbai News: मुंबई में 120 करोड़ रुपये की ड्रग्स जब्त, NCB ने एयर इंडिया के पूर्व पायलट सहित छह लोगों को किया गिरफ्तारकफ सीरीप से 66 मौतें: भारत में सप्लाई के लिए फार्मा कंपनी के पास नहीं था लाइसेंस, 10 जरूरी अपडेटफिर लुढ़का रुपया, पहली बार अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 82.20 के निचले स्तर पर, शेयर मार्केट में भी गिरावटअलीगढ़: AMU के हिन्दू छात्र ने लगाए गंभीर आरोप, तमंचे की नोंक पर लगवाये जाते है पाकिस्तान जिंदाबाद के नारेअभिनेता अरुण बाली का मुंबई में हुआ निधन, आखिरी बार लाल सिंह चड्ढा में आए थे नजर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.