वैक्सीनेशन सेंटर पर अब अन्य सरकारी कर्मचारियों की भी लगेगी ड्यूटी, प्रशासन ने दी अनुमति

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अफसर बोले, सीमित संसाधन और स्टाफ की कमी, जिला प्रशासन से मांगी मदद, वैक्सीनेशन सेंटर पर अब पटवारी-टीचर समेत अन्य कार्मिकों की लगेगी ड्यूटी

By: pushpendra shekhawat

Published: 26 Feb 2021, 07:17 PM IST

देवेन्द्र सिंह राठौड़ / जयपुर। कोरोना के कहर ने फिर से सरकार और प्रशासन की नींद उड़ा दी है। इसके रोकथाम को लेकर तैयारियों शुरू हो गई है। वहीं दूसरी ओर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग भी अलर्ट होने का दावा कर रहा है। उन्हें वैक्सीनेशन के साथ-साथ फिर से कोरोना की ज्यादा सैंपलिंग, सर्वे, संक्रमितों की मॉनिटरिंग आदि इंतजाम पूरा करना अब दोहरी चुनौती साबित हो रही है।

ऐसे में सीमित संसाधनों में कठिन परिस्थतियों को निपटने के लिए अफसरों ने अब जिला प्रशासन से भी मदद मांगी है। दरअसल, जिले में कोरोना की वैक्सीनेशन के दौर के बीच एक बार फिर से कोरोना के पलटवार ने आमजन के साथ-साथ सरकारी महकमे को परेशानी डाल दिया है। ज्यादा दिक्कत चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अफसरों को हो रही है। इनका कहना है कि, जिले में अभी कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण चल रहा है। एक मार्च से तीसरा चरण भी शुरू हो जाएगा। जिसमें वैक्सीनेशन की साइटें भी दोगुना से ज्यादा हो जाएगी। ऐसे में स्टाफ की दिक्कत आएगी।

इधर, कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सरकार ने फिर से सख्ती कर दी है। स्टेशन, एयरपोर्ट, बस स्टेंड आदि सार्वजनिक क्षेत्रों पर फिर से टीमें लगानी पड़ेगी। सैंपलिंग, सर्वे, निगरानी के लिए स्टाफ लगाना पड़ेगा। वहीं दूसरी ओर वैक्सीनेशन भी जरूरी है। इसमें भी लक्ष्य को पाना है। ऐसे में कठिन समय में इनको पुख्ता रखना बेहत चुनौतीपूर्ण साबित हो रहा है।


चिकित्सा अधिकारियों के मुताबिक जिले में वैक्सीनेशन की अमूमन 50 से 100 साइट होती है। प्रत्येक में 5-5 स्वास्थ्यकर्मी को तैनात किया जा रहा है। वहीं कोरोना की जांच इत्यादि के लिए 60 स्वास्थ्यकर्मी जुटे हुए है। अब इनकी संख्या में भी वृद्धि करनी पड़ेगी।

प्रशासन से मांगी मदद, टीचर, पटवारी लगाएंगे
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी(जयपुर प्रथम) डॉ नरोत्तम शर्मा ने बताया कि कठिन परिस्थतियां चल रही है फिर भी बेहतर ढंग से काम कर रहे है। हालांकि अब कोरोना का संक्रमण भी बढ़ रहा है और वैक्सीनेशन का तीसरा चरण भी शुरू होने वाला है। जिसमें ज्यादा साइटें बनाई जाएगी। इसमें ज्यादा स्टाफ की जरूरत होगी। ऐसे में जिला कलक्टर को पत्र लिखकर पटवारी, टीचर, क म्प्यूटरकर्मी समेत कई कार्मिकों को लगाने की मांग की है। उन्होंने सहमति भी जता दी है। इससे राहत मिल सकती है।

pushpendra shekhawat Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned