पूर्व मंत्री टीटी का आरोप, खनन विभाग में चल रहा है चहेतों को फायदा पहुंचाने का खेल

पूर्व मंत्री सुरेंद्र पाल सिंह टीटी ने खनन विभाग में चल रहे भ्रष्टाचार पर जुबानी हमला बोला है। भाजपा मुख्यालय पर टीटी ने प्रेस वार्ता में कहा कि सीकर में कांग्रेस के दिग्गज नेता को फायदा पहुंचाने के लिए चेजा पत्थर की खान की कैटेगरी चेंज कर दी और उसे संगमरमर की बता दिया गया।

By: Umesh Sharma

Published: 14 Sep 2021, 03:49 PM IST

जयपुर।

पूर्व मंत्री सुरेंद्र पाल सिंह टीटी ने खनन विभाग में चल रहे भ्रष्टाचार पर जुबानी हमला बोला है। भाजपा मुख्यालय पर टीटी ने प्रेस वार्ता में कहा कि सीकर में कांग्रेस के दिग्गज नेता को फायदा पहुंचाने के लिए चेजा पत्थर की खान की कैटेगरी चेंज कर दी और उसे संगमरमर की बता दिया गया। मामला खुला तो हमारी सरकार ने 243 करोड़ की पेनल्टी लगाई। मामला कोर्ट में पहुंचा तो कोर्ट ने विभाग को मामले पर निर्णय करने के लिए कहा। इसी दौरान हमारी सरकार बदल गयी और कांग्रेस की सरकार बन गयी। नेताजी ने दोबारा अपील की मगर विभाग ने जवाब नहीं दिया और 243 करोड़ की पेनल्टी माफ हो गयी।

टीटी ने प्रतापगढ़ का भी मामला उठाया। उन्होंने कहा कि प्रतापगढ़ में भी चहेतों को फायदा पहुंचाने के लिए लाइमस्टोन की खान को मार्बल का बताया गया। इस खान में अन्य मिनरल्स भी मिले थे। इस पर सरकार ने 4 सदस्यों की एक कमेटी बनाई। कमेटी ने भी माना कि खान लाइमस्टोन की है। मगर सरकार ने जूनियर अधिकारियों की एक कमेटी बनाई, जिसने सरकार के इशारे पर इस खान को मार्बल की बताया। इसके पीछे वजह यह थी कि अगर लाइमस्टोन की खान बताई जाती तो केंद्र सरकार से इसकी अनुमति लेनी पड़ती है। यही नहीं नीलामी में कई बड़ी सीमेंट कंपनियां भी हिस्सा लेती जिससे सरकार के चहेते व्यक्ति को यह काम नहीं मिल पाता। सरकार के इस निर्णय से न केवल करोड़ों रुपए के राजस्व का नुकसान हुआ बल्कि आदिवासी क्षेत्र के लोगों का हक भी मारा गया।

बजरी खनन पर भी सरकार को घेरा

बजरी खनन में भी गड़बड़ियों को लेकर टीटी ने सरकार को घेरा। उन्होंने कहा सरकार की गलती से महंगे दामों पर लोगों को बजरी मिल रही है। सरकार ने बजरी के ब्लॉक बड़े बनाये जबकि इन्हें छोटा बनाया जाने चाहिए थे। ताकि रेवेन्यू ज्यादा मिले और जनता को सस्ती बजरी मिले।

कांग्रेस की बी टीम के रूप में काम रहे हैं टिकैत

टीटी ने किसान आंदोलन पर कहा कि राकेश टिकैत जैसे लोग कांग्रेस की बी टीम के रूप में काम कर रहे हैं और यही कारण है कि पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सरकार और राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार इनको संरक्षण दे रही है। कैप्टन अमरिंदर सिंह को अब समझ में आने लगा है कि राजनीतिक मोड़ ले चुका किसान आंदोलन उन्हें कितना नफा नुकसान कराएगा, इसीलिए उन्होंने यह कहा कि पंजाब से किसानों को दिल्ली और हरियाणा में जाकर प्रदर्शन करना चाहिए। अब किसानों को यह सोचना चाहिए कि वह देश की उनके प्रति श्रद्धा को कम कराएंगे या किसान हित मे सरकार से वार्ता करेंगे। किसान आंदोलन का राजनीतिकरण हो चुका है।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned