सरकार के बस की नहीं, अब प्राइवेट कंपनियां चलाएंगी सरकारी स्कूल, यहां देखें जिलेवार सूची

ग्रामीण क्षेत्र के 225 व शहरी क्षेत्र के 75 स्कूलों में पीपीपी मोड, शिक्षा विभाग ने स्कूलों की सूची की जारी

 

By: nakul

Published: 11 Dec 2017, 08:09 AM IST

जयपुर।

शिक्षा विभाग ने प्रदेश में ग्रामीण व शहरी क्षेत्र के आसपास वाले उन 300 स्कूलों का चुनाव कर लिया है, जिन्हें पीपीपी मोड पर दिया जाना हैं। विभाग ने ग्रामीण क्षेत्र में 225 व शहरी क्षेत्र के 75 स्कूल चुने हैं। ये सभी स्कूल माध्यमिक व उच्च माध्यमिक स्तर के हैं। इनमें से अधिकांश स्कूलों में छात्र-छात्राओं का नामांकन एक हजार से अधिक है। विभाग ने नागौर से 27, चूरू से 25 व अलवर से 21 स्कूल चुने हैं। वहीं जयपुर जिले से भी 15 स्कूल चुने गए हैं।

 

14 तक मांगे सुझाव सार्वजनिक-निजी सहभागिता नीति पर सुझाव
शिक्षा विभाग ने 8 दिसम्बर को एक बार फिर सार्वजनिक-निजी सहभागिता नीति पर लोगों से सुझाव मांगे। विभाग ने सुझाव देने की तारीख 14 दिसम्बर तय की है।

 

READ: ग्यारह लाख स्कूली बच्चे अब भी ‘आधार’ हीन, ऐसे में नहीं मिल पाएगा विद्यार्थियों को सरकारी योजनाओं का लाभ

 

जयपुर जिले के ये प्रमुख स्कूल
शहरी क्षेत्र में चाकसू, सांभरलेक व ग्रामीण क्षेत्र में आमेर, बस्सी, चाकसू, फागी व अन्य तहसीलों में बड़े स्कूल चुने गए हैं।

 

किस जिले के कितने स्कूल

जिला ग्रामीण क्षेत्र शहरी क्षेत्र
अजमेर 0 2
अलवर 17 4
दौसा 4 0
जयपुर 8 7
बीकानेर 6 1
गंगानगर 2 2
हनुमानगढ़ 4 0
बाड़मेर 5 4
जोधपुर 11 2
बारां 1 0
बूंदी 2 5
झालावाड 2 0
कोटा 1 0
बांसवाडा 8 1
चित्तौडगढ 6 3
डूंगरपुर 7 2
प्रतापगढ 3 0
राजसमंद 3 3
उदयपुर 10 2
भरतपुर 16 1
धौलपुर 4 1
करौली 7 2
सवाईमाधोपुर 5 1
जालौर 12 0
पाली 13 3
सिरोही 8 3
चुरू 15 10
झुंझुनू 2 3
सीकर 11 2
अजमेर 2 0
भीलावाडा 6 2
नागौर 18 9
टोंक 2 0
जैसलमेर 0 1

 

READ: शिक्षा की जांच पर पड़ा मोटा ‘पर्दा’, 2 सालों से नहीं हो पाई है जांचाेें पर कार्रवाई


इधर, शिक्षक संगठनों ने जताई नाराजगी

विभाग के मुताबिक स्कूलों में नामांकन करीब 22 लाख तक बढा है। सरकार नए शिक्षकों की भर्ती भी कर रही है। तो भी स्कूलों को पीपीपी मोड पर क्यों दे रही हैं?
- विपिन कुमार शर्मा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष, प्राथमिक व माध्यमिक शिक्षक संघ


पीपीपी मोड के नाम पर शिक्षा विभाग स्कूल को निजी हाथों में देने का कार्य कर रहा है। जिस-जिस क्षेत्र में स्कूल पीपीपी मोड पर जाएंगे, वहां के विधायक के खिलाफ आवाज उठाएंगे।
- रामकृष्ण अग्रवाल, प्रदेशाध्यक्ष, अरस्तू

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned