सरकार की अधिकारियों-कर्मचारियों को चेतावनी, सोशल मीडिया पर छवि खराब की तो खैर नहीं

santosh trivedi

Publish: Oct, 13 2017 10:06:39 (IST) | Updated: Oct, 13 2017 10:08:17 (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
सरकार की अधिकारियों-कर्मचारियों को चेतावनी, सोशल मीडिया पर छवि खराब की तो खैर नहीं

सोशल मीडिया या अखबारों में अनर्गल टिप्पणी करने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों पर अब अनुशासनात्मक कार्रवाई होगी।

जयपुर। सोशल मीडिया या अखबारों में अनर्गल टिप्पणी करने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों पर अब अनुशासनात्मक कार्रवाई होगी। कार्मिक विभाग ने इस संबंध में परिपत्र जारी कर इस तरह का आचरण करने वाले कामिकों को चेतावनी दी है।

 

सरकार की नीति पर टिप्पणी का हक नहीं
विभाग की ओर से जारी परिपत्र में साफ किया गया है कि कोई भी कर्मचारी या अधिकारी सरकार के किसी कदम या नीति और अन्य अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ अनर्गल टिप्पणी नहीं कर सकता है।

 

सरकार की गरिमा को बनाए रखना कार्मिक का पहला धर्म
सरकार की गरिमा को बनाए रखना कार्मिक का पहला धर्म है। इसके बाद भी कई कार्मिक सार्वजनिक तौर पर सरकार की नीतियों और अन्य कार्मिकों के खिलाफ सोशल मीडिया पर अनर्गल आरोप प्रचारित कर रहे हैं। इस आचरण से कार्यालय की छवि धूमिल हो रही है। विभाग ने चेताया है कि जो भी कार्मिक इस तरह की टिप्पणियों का प्रचार करता पाया गया तो उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई होगी।

 

आईपीएस पंकज चौधरी ने फोड़ा था 'फेसबुक बम'
कुछ माह पूर्व जून में ही आईपीएस पंकज चौधरी ने अपने ही सीनियर एडीजी राजीव दासोत पर गंभीर आरोप लगाते हुए उनके बारे में फेसबुक पर अपशब्द लिख दिए थे। तब दोनों अफ सरों के बीच विवाद अब सोशल मीडिया पर सरेआम हो गया और राजस्थान पुलिस के भीतर चले रहे घमासान की सरेआम खिल्ली उड़ी थी।

 

हालांकि पंकज ने बाद में अपनी पोस्ट से एडीजी दासोत के खिलाफ लिखे अपशब्दों को हटा लिया था। पंकज इससे पहले सितंबर, 2014 में बूंदी में हुए दंगे के दौरान वहां के एसपी थे और इस मामले में अपनी ही सरकार को घेर चुके हैं।

 

REET में नहीं होगी नेगेटिव मार्किंग, 150 मिनट में करने होंगे 150 सवाल

 

घूसखोर पटवारी को पकड़वाने के लिए डेढ़ महीने मजदूरी कर जुटाई राशि

 

मेट्रो की सवारी में जयपुर ने चैन्नई आैर लखनऊ को पीछे छोड़ा

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned