कोरोना काल में आवासन मंडल ने उठाया यह कदम, लोगों को राहत

राजस्व बढ़ाने के लिए बढ़ाई बकाया राशि जमा करवाने की तारीख

By: SAVITA VYAS

Published: 30 Dec 2020, 01:09 PM IST

जयपुर। कोरोना काल में राजस्थान आवासन मंडल मंदी के दौर में राजस्व बढ़ाने के हर संभव नए-नए आयाम अपना रहा है। राजस्थान आवासन मंडल के आवासों की बकाया किश्त है, उनके लिए नगरीय विकास विभाग ने बोर्ड से आवंटित आवासों की बकाया राशि जमा करवाने वालों को राहत दी है। दरअसल, अब ब्याज-पेनल्टी में छूट की अवधि को 31 मार्च 2021 तक बढ़ा दिया है।

आवासन मंडल के मानसरोवर, प्रतापनगर, जवाहर नगर, शास्त्री नगर, इंदिरा गांधी नगर में 20 हजार से ज्यादा मकानों में बकाया राशि लंबित हैं। अधिकारियों के मुताबिक इन पर ब्याज और पेनल्टी की राशि भी बहुत ज्यादा बन रही हैं। ऐसे में इन आवंटियों को इस छूट का लाभ मिलेगा। कोटा, उदयपुर, अजमेर, भरतपुर, हनुमानगढ़, बीकानेर सहित अन्य शहरों में भी छूट की अवधि को बढ़ाया गया है।

इन्हें मिलेगा लाभ

आर्थिक दृष्टि से कमजोर, निम्न आय वर्ग और मध्यम आय वर्ग ए के आवास हैं और बकाया किश्ते या रकम समय पर जमा नहीं करवा पाए हैं तो उन पर लगी सभी पेनल्टी पूरी माफ कर दी जाएगी। इसके अलावा अगर व्यक्ति की आगे की बकाया है, उन्हें एक मुश्त जमा करवाएगा तो ब्याज भी पूरी तरह माफ कर दिया जाएगा। मध्यम आय वर्ग बी और उच्च आय वर्ग आवासों की बकाया राशि जमा करवाने के मामले में सरकार ने करीब डेढ़ दशक बाद छूट का लाभ दिया है। इस छूट में इन वर्ग के आवासों की बकाया राशि जमा करवाने वालों को ब्याज व पेनल्टी की राशि में 50 प्रतिशत तक की माफ किए जाएंगे। राजस्व बढ़ाने के लिए बोर्ड की ओर से बिना बिक रही प्रॉपर्टी को 50 प्रतिशत कम दर में बेचने के लिए नीलामी चलाई जा रही है।

Corona virus
SAVITA VYAS Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned