13 बड़े जेल ब्रेक... कहीं समोसा खिलाकर तो कहीं टाॅयलेट जाने के नाम.. पढ़ें और भी रोचक किस्से

इनमें दो बंदियों से लेकर 23 बंदी तक एक साथ #Jail-Break-cases फरार हो चुके हैं। इसके अलावा पैरोल पर फरार होने वाले बंदियों की लिस्ट अलग है।

By: JAYANT SHARMA

Published: 09 Apr 2021, 01:52 PM IST

जयपुर
राजस्थान #Rajasthan के जोधपुर में स्थित फलोदी उप #Jail-in-Rajasthan कारागार से जेल कार्मिकों की आंखों में मिर्च डालकर फरार हुए बंदियों की बारे में पडताल की जा रही है। बंदियों की तलाश के लिए शहर भर में नाकाबंदी जारी है। लेकिन इस बीच #Rajasthan-jail-Department राजस्थान की जेलों में सुरक्षा बंदोबस्त पर एक बार फिर से सवाल खड़ा हो गया है। बारह सालों के दौरान राजस्थान 13 बार बड़ी जेल ब्रेक की घटनाएं हो चुकी हैं। इनमें दो बंदियों से लेकर 23 बंदी तक एक साथ #Jail-Break-cases फरार हो चुके हैं। इसके अलावा पैरोल पर फरार होने वाले बंदियों की लिस्ट अलग है।

13 बड़े जेल बे्रेकए सबसे बड़ा साल 2010 में
प्रदेश में सेंट्रल #Central-Jail जेल से लेकर खुला बंदी शिविर तक करीब 130 से ज्यादा जेले हैं। इनमें बीस हजार से ज्यादा बंदी बंद हैं। पिछले तीन से चार साल के दौरान राज्य में जेल ब्रेक की कोई बडी घटना वैसे तो नहीं हुई लेकिन साल 2009 से लेकर अब तक की बात करें तो #Rajasthan-State प्रदेश में 13 बड़ी घटनाएं हो चुकी हैं। इनमें साल 2010 में चित्तौडगढ़ जेल में हुआ ब्रेक सबसे बड़ा था। इसके बाद जून 2011 में डीडवाना जेल से एक साथ छह बंदी फरार हुए। फिर नवंबर 2011 में भीलवाडा की गंगापुर जेल से छह बंदी और अगले ही महीने यानि दिसंबर 2011 में जालोर जेल से एक साथ चैदह बंदी फरार हो गए। उसके बाद अगस्त 2012 में भीम जेल से एक साथ दस बंदी भाग गए। फिर नवम्बर 2012 में छबड़ा जेल से एक साथ छह बंदी जेल प्रशासन की नाक के नीचे से भाग गए। फिर 2013 में सांचोर से 3 2014 में झाडोल से तीन और 2015 मई में करौली से छह बंदी फरार हो गए।

वाॅच टाॅवरए कैमरे और कई तरह के सुरक्षा उपकरण और अब बुलेट प्रूफ वाहन भी
जेल अफसरों ने बताया कि जेल में बंदियों की सुरक्षा बंदोबस्त को साल दर साल पुखता किया जा रहा है। वाॅच टाॅवरों की संख्या जेलों में बढ़ाई जा रही है और साथ ही सुरक्षा दीवारों को उंचा करने के साथ ही उन पर वायरिंग भी की जा रही है। साथ ही जेल में आने वाले और जेल से बाहर जाने वाले बंदियों की जांच के लिए मशीनों की भी व्यवस्था की गई है। साल 2021 में जेल से बंदियों को पेशी पर ले जाने के लिए भी बुलेट प्रूफ वाहनों का बंदोबस्त किया जा रहा है।

दो सौ से ज्यादा बंदियों की तलाश है जेल विभाग को
हांलाकि इस बीच पैरोल पर जाने वाले बंदियों को लेकर जेल प्रशासन ज्यादा परेशान है। प्रदेश भर की जेलों से करीब दो सौ दस बंदी जो पैरोल पर जाने के बाद वापस नहीं लौटे हैं उनकी तलाश की जा रही हैं। ऐसे बंदियों के लिए संबधित थानों में मुकदमें दर्ज कर उनकी पडताल की जा रही है।

JAYANT SHARMA Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned