राजस्थान जन आधार प्राधिकरण विधेयक 2020 होगा पेश

राज्य सरकार ने भामाशाह कार्ड की जगह पर जन आधार कार्ड जारी करने की घोषणा की थी

राज्य सरकार जन आधार प्राधिकरण विधेयक 2020 को विधानसभा में पेश करेगी

जयपुर।
राज्य सरकार ने भामाशाह कार्ड की जगह पर जन आधार कार्ड जारी करने की घोषणा की थी। इसी के क्रम में मंगलवार को राज्य सरकार जन आधार प्राधिकरण विधेयक 2020 को विधानसभा में पेश करेगी।। जिसके अनुसार लोक कल्याणकारी योजना, सेवा और सुविधाओं को लाभ दिया जाना है। इसके लिए आवश्यक प्राधिकरण के गठन और विषय को विधेयक में शामिल किया गया है। राजस्थान जन आधार प्राधिकरण अध्यादेश 2019 को बीते दिनों राज्य सरकार ने जारी किया था।


मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपनी सरकार की पहली वर्षगांठ पर 18 दिसबंर को इस योजना की शुरुआत की थी। योजना को शुरू करने से पहले सरकार ने प्राधिकरण गठन का फैसला किया था। यह प्राधिकरण जनाधार योजना को सुचारू एवं प्रभावी मॉनिटरिंग के साथ लागू करने की दिशा में कार्य करेगा। प्रदेश में खाद्य सुरक्षा से जुड़े एक करोड़ 16 लाख लोगों को शुरुआत में निशुल्क जन आधार कार्ड दिया जाएगा। जनाधार कार्ड 1 अप्रैल से काम करना शुरू करेगा। नए जन आधार कार्ड बनाने पर 20 करोड़ रुपए से ज्यादा का खर्चा होगा। जन आधार कार्ड एक परिवार की एक पहचान बनेगा यानि एक कार्ड, एक नबंर, एक पहचान। भामाशाह कार्ड की तरह यह कार्ड भी महिला के नाम से बनेगा। अगर किसी परिवार में महिला नहीं है तो पुरुष के नाम से भी जन आधार कार्ड बनाया जा सकता है। जन आधार कार्ड में 10 अंक का पंजीयन नंबर होगा।

Sunil Sisodia Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned