अमरीकी, जापानी कम्पनियां राजस्थान आएं, हम देंगे हर छूट और सुविधाएं

कोरोना संकट में चीन से कम्पनियों के पलायन को भुनाने के लिए सरकार ने उठाया कदम, मुख्य सचिव ने दोनों देशों के राजदूतों को दिया निवेश का न्योता

By: Pankaj Chaturvedi

Published: 10 May 2020, 07:30 AM IST

पंकज चतुर्वेदी

जयपुर. कोरोना संकट में विनिर्माण क्षेत्र की दिग्गज अमरीकी और जापानी कम्पनियों के चीन से पलायन की संभावना को राजस्थान में निवेश का अवसर बनाने के लिए सरकार अब आगे बढ़ी है।आधिकारिक तौर पर मुख्य सचिव डी.बी.गुप्ता ने इस बारे में अमरीका और जापान को निवेश का न्योता दिया है।
अमरीकी राजदूत केनेथ आई.जस्टर और जापान के राजदूत सातोषी सुजुकी को पत्र लिख कर भरोसा भी दिलाया है कि अगर दोनों देशों की कम्पनियां राजस्थान आती हैं तो राज्य सरकार हर संभव रियायत और सुविधाएं मुहैया कराएगी। सरकार ने उम्मीद जताई है कि कोरोना काल के बाद विश्व में विनिर्माण और सॉफ्टवेयर क्षेत्र के नए आयाम उभरेंगे। चीन में स्थित जापानी कम्पनियों ने अपने विनिर्माण ढ़ांचे को अन्यत्र ले जाने के लिए नए स्थान तलाशना भी शुरु कर दिया है। ऐसे में दोनों देशों की कम्पनियेां के लिए राजस्थान एक संभावनाओं भरा ठिकाना होगा।
कोरोना संक्रमण के फैलाव में चीन की संदिग्ध भूमिका को लेकर अमरीका और चीन के बीच लगातार तनाव बढ़ता जा रहा है। ऐसे में अमरीका, जापान और यूरोपियन यूनियन के कई देशों की कंपनियों की ओर से उनके कारोबार चीन से बाहर अन्य किसी देश में स्थापित करने की आशंका जताई जा रही है।

दो जापानी क्षेत्र, 45 कम्पनियां संचालित

फिलहाल अलवर के नीमराणा में विशेषतौर पर जापानी कम्पनियों के लिए बने 350 एकड़ के औद्योगिक पार्क में 45 कम्पनियां संचालित हैं। मुख्य सचिव ने इसका हवाला देते हुए कहा है कि पहला ऐसा जोन राजस्थान ने बनाया। नीमराणा के पास ही दूसरा ऐसा जोन जापान विदेश व्यापार संगठन के साथ घिलोथ में बनाया जा रहा है। ऐसे में राजस्थान विदेशी निवेशकों की आवश्यकताओं को बखूबी समझता है। साथ ही जापान के उत्पादन मानदंडों के मुताबिक श्रमिक भी यहां मौजूद हैं।

हम हैं निवेशकों की पसंद

सरकार ने कहा है कि राजस्थान हमेशा विदेशी निवेशकों का पसंदीदा स्थान रहा है। इसीलिए होण्डा, सेंट गोबेन, जेसीबी, लाफार्ज, बॉश, डायकिन, अशोक लिलैंड जैसी बड़ी कम्पनियों ने राजस्थान को अपनी गतिविधियों के लिए चुना। सॉफ्टवेयर की विश्वस्तरीय कम्पनियां जेनपैक्ट और इंफोसिस भी राजस्थान से अपनी गतिविधियां संचालित करती हैं।

ये बताई खूबियां, दिया भरोसा

— पूरे प्रदेश में विभिन्न स्थानों पर पहले से तैयार भूमि की उपलब्धता
— सामाजिक आधारभूत ढ़ाचा उपलब्ध
— राज्य में कानून व्यवस्था की सर्वोत्कृष्ट स्थितियां मौजूद
— श्रमिकों की उपलब्धता और श्रम अनुकूल वातावरण

Pankaj Chaturvedi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned