Rajasthan: दावेदार ‘भरपूर’, बगावत होना तय! अब ‘डैमेज कंट्रोल’ की रणनीति पर फोकस

20 जिलों की 90 निकायों में चुनावी रण, प्रत्याशी चयन सूची को लेकर बगावत-विरोध संभावित, वंचित रहे दावेदार कर सकते हैं बगावत, निर्दलीय होकर भर सकते हैं नामांकन पर्चा, कांग्रेस-भाजपा को मिले हैं बड़ी संख्या में आवेदन, दावेदारी जताने वाले कई नेता-कार्यकर्ता होंगे टिकट से वंचित



By: nakul

Published: 15 Jan 2021, 11:29 AM IST

जयपुर।

निकाय चुनाव के लिए आज नामांकन आवेदन की आखिरी तारीख ख़त्म होने के साथ ही कांग्रेस और भाजपा में बगावती नेताओं के पैमाने की तस्वीर भी साफ़ हो जायेगी। इसके फ़ौरन बाद दोनों ही दल बागियों को मनाने की मशक्कत में जुट जायेंगे। दरअसल, अधिकृत प्रत्याशी सूची सामने आने के बाद आज से बगावत और विरोध की संभावना दिखाई दे रही है। ऐसे में अब राजनीतिक दलों का ‘डैमेज कंट्रोल’ प्लान भी आज से सक्रीय हो जाएगा।


गौरतलब है कि चुनाव कार्यक्रम के तहत कल नामांकन पत्रों की जांच और फिर 19 जनवरी को नामांकन वापसी की तारीख है। ऐसे में राजनीतिक दलों के पास बागियों को मनाने के लिए दो से तीन दिन तक का समय रहेगा।


बगावत होना तय
निकाय चुनाव में हर बार की तरह इस बार भी बगावती सुर उठना तय है। इसका अंदाजा निकाय चुनाव लड़ने के इच्छुक नेताओं-कार्यकर्ताओं के जोश और उत्साह हो देखकर लगाया जा सकता है। दरअसल, दोनों ही दलों को लगभग हर निकाय में बड़ी संख्या में आवेदन प्राप्त हुए हैं।

हालांकि चुनाव प्रभारियों ने इन आवेदनों में से ‘छंटनी’ करते-करते तीन-तीन नामों के पैनल बनाकर पार्टी नेतृत्व से किसी एक नाम पर एकराय बनाई है। लेकिन वंचित रहे दावेदारों का बागी होकर चुनाव मैदान में किस्मत आजमाना तय माना जा रहा है।


चलेगा मान-मनव्वल का दौर
नामांकन आवेदन की आज अंतिम तिथि और फिर कल नामांकन पत्रों की जांच के बाद सामने आ जाएगा कि आखिर कितने बागी चुनाव मैदान में टाल ठोक रहे हैं। ऐसे में राजनीतिक दल और उनके अधिकृत प्रत्याशी ऐसे बागियों को मनाने की कवायद में जुट जायेंगे। ज़्यादा से ज़्यादा बागियों को बैठाकर मुकाबले को कम से कम चुनौतीपूर्ण बनाने की कोशिश रहेगी।

बगावत के डर से नहीं की थी सूची सार्वजनिक

दरअसल कांग्रेस और भाजपा को पहले से ही इस बात का अंदेशा था कि टिकट वितरण के बाद कहीं न कहीं बगावत के सुर उठेंगे जिसके कारण पार्टी ने प्रत्याशियों की घोषणा सार्वजनिक नहीं की। टिकट के लिए जिन दावेदारों के नाम फाइनल हुए थे या जिन्हें पार्टी ने अपना प्रत्याशी बनाया है, उनको फोन के जरिए सूचना देकर पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी के तौर पर नामांकन दाखिल करने को कहा गया है। प्रत्याशियों की घोषणा सार्वजनिक नहीं करने का फॉर्मूला नगर निगम चुनाव, पंचायत जिला परिषद और दिसंबर में हुए 50 निकायों में अपनाया गया था। हालांकि कांग्रेस को इसके बाद भी बगावत का सामना करना पड़ा था।

28 जनवरी को होगा मतदान

प्रदेश के 90 निकायों में हो रहे चुनाव में चुनाव में नामांकन पत्रों की जांच कल होगी। 19 जनवरी दोपहर 3 बजे तक नाम वापसी और 28 जनवरी को एक साथ सुबह 8 से शाम 5 बजे तक मतदान होगा, जबकि मतगणना 31 जनवरी को सुबह 9 बजे से होगी।

Show More
nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned