कांग्रेस ने राजभवन से टकराव टाला, अब धरने के बजाय होटल में होगी सभा

राजस्थान में सियासी घमासान के बीच कांग्रेस पार्टी ने रविवार अचानक शाम को अपनी रणनीति में बदलाव कर लिया है। कांग्रेस अब राजस्थान के राजभवन के बाहर सोमवार को कोई प्रदर्शन नहीं करेगी, हालांकि देश भर के राजभवनों के सामने प्रदर्शन कार्यक्रम किया जाएगा।

By: abdul bari

Published: 27 Jul 2020, 01:17 AM IST

जयपुर।
राजस्थान में सियासी घमासान के बीच कांग्रेस पार्टी ने रविवार अचानक शाम को अपनी रणनीति में बदलाव कर लिया है। कांग्रेस अब राजस्थान के राजभवन के बाहर सोमवार को कोई प्रदर्शन नहीं करेगी, हालांकि देश भर के राजभवनों के सामने प्रदर्शन कार्यक्रम किया जाएगा।

धरने के बजाय अब होटल में ही सभा

"लोकतंत्र बचाओ-संविधान बचाओ" अभियान के तहत 27 जुलाई को प्रातः 11 से 12 बजे तक होटल फेयरमोंट में एक सभा का आयोजन किया गया है। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रभारी महामंत्री अविनाश पाण्डे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविन्द डोटासरा, पर्यवेक्षक रणदीप सुरजेवाला, अजय माकन, सचिव विवेक बंसल तरुण कुमार , देवेन्द्र यादव व काज़ी निज़ामुद्दीन सहित सभी कांग्रेस एवं सम्बद्ध विधायक मौजूद रहेंगे।

उधर, राज्य मंत्रिमंडल ने राज्यपाल कलराज मिश्र की ओर से उठाए गए सवालों का जवाब सहित संशोधित प्रस्ताव राजभवन में भेज दिया है और 31 जुलाई से विधानसभा सत्र बुलाने की मांग की है। माना जा रहा है कि राज्यपाल कलराज मिश्र की ओर से शाम को मुख्य सचिव और डीजीपी को बुलाए जाने के बाद यह रणनीति में बदलाव कर लिया गया और राजभवन से सीधे टकराव को टाल दिया गया।

देश के सभी राज्यों में आज राजभवन का घेराव —

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने ट्वीट कर कहा कि कल 'स्पीक फॉर डेमोक्रेसी कैंपेन' के तहत कांग्रेसी देश की सभी राज्यों में राजभवन के सामने प्रदर्शन करेंगे, लेकिन हम राजस्थान में ऐसा कुछ भी नहीं करेंगे। हमने राज्यपाल को कैबिनेट का रिवाइज्ड नोट भेज दिया है और उम्मीद करते हैं कि वे जल्द सत्र आहूत करने की स्वीकृति देंगे।

Congress
Show More
abdul bari
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned