अमरिंदर सिंह को सलाह दे रहे हैं और गहलोत यहां क्या कर रहे हैं— राठौड

 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अमरिंदर सिंह को पार्टी की दुहाई की सलाह को राठौड ने बताया हास्यास्पद

By: Arvind Singh Shaktawat

Published: 19 Sep 2021, 05:28 PM IST

जयपुर।
उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि 14 महीने में 14 बार कांग्रेस आलाकमान के प्रतिनिधियों को बैरंग लौटाकर मंत्रिमंडल का पुनर्गठन नहीं करने की जिद पर अड़े प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का अब पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को देश और पार्टी की दुहाई देकर अंतरात्मा को सुनने की बात कहना हास्यास्पद है।

राठौड़ ने रविवार को यहां एक बयान जारी कर कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को यह संदेश दे रहे हैं कि विधायकों एवं आमजन के अनुसार कई बार आलाकमान को नेतृत्व परिवर्तन करना पड़ता है, लेकिन राजस्थान में कांग्रेस के तत्कालीन प्रदेशाध्यक्ष एवं खुद की पार्टी के 20 से ज्यादा विधायकों की सलाह को पूरी तरह दरकिनार करके मंत्रिमंडल का पुनर्गठन एवं राजनीतिक नियुक्तियां भी नहीं करने पर अड़े हैं।

राठौड़ ने कहा कि राज्य में मंत्रिमंडल विस्तार और कुछ राजनीतिक नियुक्तियां लंबे समय से अटके रहना इस बात का स्पष्ट प्रमाण है कि कांग्रेस पार्टी में अंतर्कलह इस कदर बढ़ गई है कि कांग्रेस रूपी जहाज कभी भी डूब सकता है।

पंजाब में हुए सियासी घटनाक्रम ने राजस्थान के मुख्यमंत्री की 'स्वयंभू' व एकछत्र राज की धारणा को तोड़ दिया है और उनमें यह भय व्याप्त हो गया है कि कहीं पंजाब का घटनाक्रम राजस्थान में ना हो जाए। इसलिए अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जो लगातार हाईकमान को चुनौती दे रहे थे और नजरअंदाज करने में लगे हुए थे, वही अब कांग्रेस हाईकमान को सर्वोच्च मानकर उनके निर्देशों की पालना करने की सीख अमरिंदर सिंह को दे रहे हैं।

राठौड़ ने कहा कि कांग्रेस शासित राज्य पंजाब, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी के भीतर लावा लगातार उबल रहा है। पंजाब में तो कांग्रेस के भीतर का लावा ज्वालामुखी का रूप ले चुका है, अब बारी राजस्थान की है।

राठौड़ ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को अंतर्कलह से जूझती कांग्रेस पार्टी के नुकसान की चिंता छोड़कर विगत 33 महीने से कांग्रेस सरकार में जारी अन्तर्द्वन्द के कारण राजस्थान की जनता को हो रहे नुकसान की चिंता करनी चाहिए।

Arvind Singh Shaktawat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned