Power Crisis:दफ्तर खुलते ही बढ़ गई बिजली की मांग, अनुबंध का आधा भी नहीं मिल रहा कोयला

Power Crisis: गहराए बिजली संकट के बाद भी प्रदेश के बिजलीघरों को कोल इंडिया से अब भी अनुबंध के अनुपात में आधा भी कोयला नहीं मिल पा रहा है।

By: Kamlesh Sharma

Published: 11 Oct 2021, 09:28 PM IST

जयपुर। Power Crisis: गहराए बिजली संकट के बाद भी प्रदेश के बिजलीघरों को कोल इंडिया से अब भी अनुबंध के अनुपात में आधा भी कोयला नहीं मिल पा रहा है। अभी भी कोल इंडिया से कोयला रैक 11.5 की जगह 5 रैक ही मिल रही है। इस बीच सोमवार को दफ्तर खुलते एक बार फिर बिजली मांग और उपलब्धता में अंतर गहरा गया। सोमवार को बिजली की अधिकतम अनुमानित मांग 12600 मेगावाट रही, जबकि उपलब्धता केवल 9317 मेगावाट ही रही। इस तरह करीब 3283 मेगावाट का अंतर रहा। इस कारण एक्सचेंज से 16 रुपए प्रति यूनिट तक बिजली खरीदनी पड़ी है।

बिजली मांग और उपलब्धता में अंतर बढ़ने के साथ ही बिजली कटौती जारी है। जानकारों की मानें तो प्रदेश के गांवों में बिजली कटौती बढ़ा दी गई है। हालांकि इस बीच ऊर्जा महकमे और डिस्कॉम्स प्रशासन ने सरकार से सभी विभागों में भी बिजली बचत के आदेश जारी कराने की जरूरत जताई है। अब सभी सरकारी विभागों में खासकर एसी बंद रखने के निर्देश जारी करने की जरूरत जताई जा रही है। कोयले की कमी के बीच प्रदेश में बिजली की बढ़ती डिमाण्ड ने चिंता बढ़ाई है। पिछले 11 दिनों में करीब 418 लाख यूनिट (प्रतिदिन) डिमाण्ड बढ़ी है।

रोजाना बात, पर नहीं बन रही बात...
कोल इंडिया से राज्य के बिजलीघरों में पूरा कोयला नहीं मिलने से ऊर्जा सचिव ने सोमवार को फिर केन्द्रीय कोल सचिव से बात की। इस दौरान उन्होंने अनुबंध के आधार पर अब हर दिन 11.5 कोयला रैक उपलब्ध कराने की जरूरत जताई। जानकारी कोयला मंत्री तक भी पहुंचाई गई है। एक रैक में 4 हजार टन कोयला आता है।

एक ही दिन 1029 मेगावाट बढ़ी अधिकतम मांग
प्रदेश में एक ही दिन में 1029 मेगावाट अधिकतम मांग बढ़ गई। जहां रविवार को अधिकतम मांग 11571 मेगावाट थी, जो सोमवार को बढ़कर 12600 मेगावाट हो गई। बिजली की कुल मांग 2563 लाख यूनिट रही, जबकि रविवार को 2493 लाख यूनिट थी।

बिजली की स्थित
राज्य में 9317 मेगावाट की उपलब्धता रही है वहीं 10683 मेगावाट की औसत मांग व — औसतन अधिकतम मांग 12200 मेगावाट
— औसत मांग 10683 मेगावाट
— उपलब्धता रही 9317 मेगावाट

यहां से भी बिजली उत्पादन बंद..
कोयला संकट के कारण अडानी पावर की 600 मेगावाट की एक यूनिट से भी उत्पादन बंद है। इसी तरह छबड़ा की चार यूनिट से भी बिजली उत्पादन नहीं हो रहा। यहां कुल छह यूनिट है।

Kamlesh Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned