डेंगू के डंक ने मचाया हड़कंप

डेंगू के डंक ने मचाया हड़कंप

RAJESH MEENA | Publish: Mar, 14 2018 01:07:53 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

डेंगू के डंक ने मचाया हड़कंप, बढ़ रही है मरीजों की संख्याचिकित्सा विभाग की विफलता के चलते प्रदेशभर में जारी स्वाइन फ्लू के कहर के बीच डेंगू ने भी अपना

 


प्रदेश भर में कहर बनकर टूट रहे स्वाइन फ्लू के बीच अब डेंगू के डंक ने भी
अपना असर दिखना शुरू कर दिया है । स्वाइन फ्लू की रोकथाम में नाकाम रहा
चिकित्सा विभाग डेंगू के कहर को रोकने में भी नाकाम साबित होता दिख रहा है।


स्वाइन फ्लू से उबरे नहीं...अब डेंगू के डंक ने डराया
प्रदेशभर के आंकड़ों की बात की जाए तो ये आकड़े चिंताजनक हैं । 24 जिलों में
पांव पसार चुके डेंगू के अब तक 750 मरीज सामने आ चुके हैं । जिनमे 2 लोगों
की मौत भी हो चुकी है ।

पहले 3 महीनों में डेंगू के 750 मरीज, 2 की मौत
वही राजधानी जयपुर में भी मंगलवार को एक निजी अस्पताल में दस वर्षीय बच्चे की
डेंगू से पहली मौत होने का मामला सामने आया हांलाकि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य
विभाग के अधिकारी डेंगू से कोई मौत होने से इनकार कर रहे है ।


डेंगू का कहां कितना असर

जिला- मरीज
अजमेर - 37
अलवर - 35
बारां - 10
बाड़मेर - 1
भरतपुर - 35
भीलवाड़ा -3
बीकानेर - 2
बूंदी - 8
चित्तौडग़ढ़ - 1
चूरू - 12
दौसा - 25
धौलपुर - 11
श्रीगंगानगर - 2
हनुमानगढ़ -6
जयपुर - 375
जालोर - 1
झुंझुनं - 28
जोधपुर - 7
करौली - 13
कोटा -64
नागौर - 16
सवाई माधोपुर - 12
सीकर - 27
टोंक - 18

चिकित्सा विभाग स्वाइन फ्लू और डेंगू, दोनों ही रोगों पर अब तक लगाम नहीं
लगा पाया हैं । उधर स्वाइन फ्लू का भी असर कम होने की बजाय बढ़ रहा है ।

स्वाइन फ्लू के 1203 मरीज,104 की मौत

अब एक IPS अधिकारी की स्वाइन फ्लू रिपोर्ट पॉजिटिव आई है..एसएमएसअस्पताल में
जांच के बाद जयपुर रेंज आईजी हेमंत प्रियदर्शी को स्वाइनफ्लू पॉजिटिव बताया
गया है अगर आकड़ों की बात की जाएतो जनवरी से अब तक स्वाइन फ्लू के 1203 मरीज
सामने आ चुके हैं। प्रदेशभर में स्वाइन फ्लू का प्रकोप इन पांच जिलों में
ज्यादा देखने को मिल रहा है।

स्वाइन फ्लू का प्रकोप यहां ज्यादा

जिला - पॉजिटिव मरीज
जयपुर - 755
जोधपुर - 91
अजमेर - 47
कोटा - 23
उदयपुर - 23

इधर डेंगू और स्वाइन फ्लू बेकाबू हो रहे हैं और उधर तबादलों से रोक हट गई है।
ऐसे में चिकित्सा विभाग में तबादले होने को लेकर सवाल उठ रहे हैं। जानकारों का
कहना है कि विभाग में तबादले नवंबर से जनवरी तक होने चाहिए। इस समय तबादले हुए
तो व्यवस्था पर असर पड़ेगा ।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned