एक गली में कितनी जिंदगियां, इन्हीं की एक कहानी— 'गली हसनपुरा'

Tasneem Khan

Updated: 16 Jan 2020, 03:53:55 PM (IST)

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

जयपुर। हाल ही में दिल्ली के विश्व पुस्तक मेले में जयपुर की जानी—मानी कथाकार रजनी मोरवाल के उपन्यास गली हसनपुरा का लोकार्पण हुआ। इस मौके पर देश के ख्यात लेखकों ने शिरकत की। तीन कहानी संग्रह के बाद रजनी मोरवाल का यह पहला उपन्यास है। गली हसनपुरा जयपुर के एक ऐसे मोहल्ले की कहानी है, जिसमें हर धर्म, वर्ग, जाति, समुदाय के लोग शामिल हैं, जो देश में व्याप्त अव्यवस्थाओं से जूझ रहे हैं। यह वर्ग पेट से ही सोचता है और पेट के कारण ही मर भी जाता है। आज इस वर्ग का अस्तित्व खतरे में हैं। इसी को रजनी मोरवाल ने इस उपन्यास में पिरोया है।
आपको बता दें कि रजनी मोरवाल के इससे पहले तीन कहानी संग्रह, कुछ तो बाकी है, नमकसार और हवाओं से आगे आ चुके हैं। यह उपन्यास आधार प्रकाशन से प्रकाशित किया गया है। उनकी कहानी नमकसार काफी चर्चित रही और इसका नाट्य रुपांतरण भी हो चुका है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned