Rajasthan School Of Arts : तीन शिक्षक एपीओ


कोविड हुआ तो कॉलेज शिक्षा आयुक्तालाय और प्रिंसिपल होगी जिम्मेदार
विरोध करने के लिए निकाला अनोखा तरीका
विद्यार्थियों ने लिखे खत
कॉलेज आयुक्त और प्रिंसिपल को लिखे पत्र
वहीं आयुक्तालय ने नियुक्त किए सात अधिकारी
लिखित आश्वासन का इंतजार

By: Rakhi Hajela

Published: 06 Apr 2021, 08:34 PM IST



जयपुर, 6 अप्रेल
एक ओर जहा कॉलेज शिक्षा आयुक्तालय ने स्टूडेंट्स की मांगों को देखते हुए rajasthan school of arts के तीन शिक्षकों को एपीओ कर दिया है वहीं दूसरी ओर स्टूडेंट्स अब मांग कर रहे हैं कि आयुक्तालय उन्हें लिखित आश्वासन दें कि इन शिक्षकों को वापस यहां नहीं लगाया जाएगा। अपनी इसी मांग को लेकर मंगलवार को स्टूडेंट्स ने कॉलेज शिक्षा आयुक्तालय और प्रिंसिपल को पत्र लिखे जिसमें लिखा कि यदि उन्हें कोविड होता है तो इसकी पूरी जिम्मेदारी कॉलेज शिक्षा आयुक्तालय और rajasthan school of arts प्रशासन की होगी। पत्र में उन्होंने लिखा कि वह अपनी मांगों को लेकर शांति से धरना दे रहे हैं जिसके कारण उन्हें कॉलेज परिसर के बाहर बैठना पड़ रहा है। उन्होंने प्रायोगिक परीक्षा का बहिष्कार किया है लेकिन कॉलेज प्रशासन उनके आंदोलन को दबाने के लिए कभी पुलिस बुलाता है तो कभी जबरन उन्हें परीक्षा दिलवाने के लिए पकडकऱ ले जाया जाता है। उन्होंने यह भी लिखा है कि प्रदेश में कोविड के केस लगातार बढ़ रहे हैं और उन्हें धरने के कारण परिसर में बाहर घंटों बैठा रहना पड़ता है क्योंकि उनकी मांगों पर कार्रवाई नहीं हो रही। ऐसे में यदि उन्हें कोविड होता है या फिर स्वास्थ्य को किसी प्रकार से हानि पहुंचती है तो इसकी जिम्मेदार राज्य सरकार, कॉलेज आयुक्तालय और प्रिंसिपल होंगी। इतना ही नहीं हमारे अभिभावक भी राज्य सरकार, कॉलेज आयुक्तालय और प्रिंसिपल को इसके लिए जिम्मेदार मानेंगे। ऐसे में बेहतर है कि सरकार हमारी मांगों पर त्वरित कार्रवाई करते हुए आंदोलन को समाप्त करवाए। विद्यार्थियों ने कहा कि आयुक्तालय ने तीन शिक्षकों को एपीओ जाने के आदेश दिए हैं लेकिन हमें अब तक लिखित में आश्वासन नहीं दिया कि इन्हें वापस यहां नियुक्त नहीं किया जाएगा।
सात अधिकारी किए नियुक्त
वहीं दूसरी ओर कॉलेज शिक्षा आयुक्तालय की ओर से rajasthan school of arts में सात अधिकारियों की नियुक्ति की गई है। इन अधिकारियों को प्रायोगिक परीक्षा में बतौर वीक्षक लगाया गया है। आयुक्तालय ने निर्देश दिए हैं कि यह अधिकारी 7 अप्रेल से 10 अप्रेल तक परीक्षा कार्य के सम्पादन के लिए rajasthan school of arts में अपनी उपस्थिति देंगे। गौरतलब है कि प्रायोगिक परीक्षा के लिए आयुक्तालय ने कुछ दिन पहले भी तकरीबन 100 वीक्षकों की नियुक्ति की थी जिनका विद्यार्थियों ने यह कहते हुए विरोध किया था कि बिना योग्यताधारी अधिकारियों को वीक्षक लगाया है ऐसे में वह प्रायोगिक परीक्षा कैसे लेंगे।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned