scriptrajasthan states 5000 km road waiting for National Highway | नेशनल हाईवे के इंतजार में Rajasthan की 5000 किमी सड़क, हरी झंडी मिले तो 26 जिलों को फायदा | Patrika News

नेशनल हाईवे के इंतजार में Rajasthan की 5000 किमी सड़क, हरी झंडी मिले तो 26 जिलों को फायदा

 

Rajasthan में चुनावी वर्ष 2018 में तत्कालीन भाजपा सरकार ने पांच हजार किलोमीटर राज्य राजमार्गों को नेशनल हाईवे बनाने के प्रस्ताव केन्द्र सरकार को भेज कर सैद्धांतिक सहमति तो ले ली, लेकिन प्रस्ताव कागजों में ही सिमट कर रह गए हैं।

 

जयपुर

Updated: April 15, 2022 07:35:57 am

अरविन्द सिंह शक्तावत

Rajasthan में चुनावी वर्ष 2018 में तत्कालीन भाजपा सरकार ने पांच हजार किलोमीटर राज्य राजमार्गों को नेशनल हाईवे बनाने के प्रस्ताव केन्द्र सरकार को भेज कर सैद्धांतिक सहमति तो ले ली, लेकिन प्रस्ताव कागजों में ही सिमट कर रह गए हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पिछले माह एक मीटिंग में केन्द्रीय सडक़ परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को अपना वादा भी याद दिलाया था, लेकिन इसके बाद भी कुछ नहीं हुआ।

नेशनल हाईवे के इंतजार में राज्य की 5000 किमी सड़क
नेशनल हाईवे के इंतजार में राज्य की 5000 किमी सड़क

राज्य की तत्कालीन भाजपा सरकार ने प्रदेश के 26 जिलों के पचास राज्य राजमार्ग एवं अन्य सडक़ों को नेशनल हाईवे बनाने के लिए केन्द्र सरकार को प्रस्ताव भेजे थे। तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और उस समय के सार्वजनिक निर्माण मंत्री युनूस खान ने बार-बार केन्द्र सरकार से इन सडक़ों को नेशनल हाईवे बनाने की मांग रखी। इसके बाद केन्द्रीय सडक़ परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने 2018 में ही इन सडक़ों को नेशनल हाईवे बनाने के लिए सैद्धांतिक सहमति दे दी।

इसके बाद हुए विधानसभा चुनाव में इसे बड़ा मुद्दा भी बनाया गया। चुनाव हो गए और प्रदेश में भाजपा की सरकार भी चली गई। दिसम्बर 2018 में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद अब तक कई बार केन्द्र सरकार को इन सडक़ों को नेशनल हाईवे घोषित करने के लिए आग्रह किया जा चुका है, लेकिन अभी तक इस बारे में किसी तरह का सकारात्मक जवाब केन्द्र की ओर से नहीं आया है। पिछले माह एक सडक़ के ऑनलाइन उद्घाटन में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केन्द्रीय सडक एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को पिफर से अपना वादा याद दिलाया था।

हर सडक़ के गिनाए थे फायदे

तत्कालीन भाजपा सरकार ने जिन पचास सडक़ों को नेशनल हाईवे घोषित करने के प्रस्ताव केन्द्र को भेजे थे, उनमें हर सडक़ को नेशनल हाईवे बनने के फायदे भी गिनाए गए थे। किसी सडक़ को धार्मिक तो किसी को आर्थिक गतिविधियों के लिहाज से महत्वपूर्ण बताया गया था। आसपास के राज्यों से भी यह सडक़ें जोड़े जाने के फायदे गिनाए गए थे। साथ ही पर्यटन को बढ़ावा मिलने की बात कही गई थी।

नेशनल हाईवे बनने का इंतजार
— दौसा—लवाण— चाकसू—फागी—दूदू (137 किमी)

— जालोर—भीनमाल—कारडा—सांचौर (136 किमी)
— नाचना—रामदेवरा—फलसूंड— बायतू (210 किमी)

— सिरसा—नोहर—तारानगर—चूरू (143 किमी)
— देवली—नसीराबाद वाया केकड़ी (96 किमी)

— रामदेवरा—पोकरण—फलसूंड— भादका (210 किमी)
— डूंगरगढ—सरदारशहर—तारानगर— राजगढ़—कैरू—लोहानी (180 किमी)

— मंदसौर—प्रतापगढ़—धरियावद—सलूम्बर—डूंगरपुर (167 किमी)
— झिरका फरोजपुर— पहाड़ी—नगर— हिंडौन—करौली— मुहाना (210 किमी)

— मथुरा— भरतपुर— बयाना— हिंडौन— उत्तर प्रदेश सीमा (101 किमी)
— जालंधर—मोगा—भटिंडा— किशनगढ़—अजमेर (429 किमी)

— नाथूसरी— भादरा— सिंधमुख— सार्दुलपुर—मलसीसर—झुंझुनूं— गुढ़ा— उदयपुरवाटी (200 किमी)
----------------------------

हरी झंडी मिले तो 26 जिलों को फायदा
यदि राज्य के प्रस्तावों को केन्द्र की ओर से हरी झंडी मिल जाती तो प्रदेश की 50 सडकें नेशनल हाईवे के लिए स्वीकृत हो जाती तो जोधपुर, बीकानेर, जयपुर, दौसा, सिरोही, पाली, जालोर, कोटा, बाड़मेर, हनुमानगढ, चूरू, नागौर, टोंक, अजमेर, कोटा, जैसलमेर, श्रीगंगानगर, बारां, प्रतापगढ़, उदयपुर, डूंगरपुर, करौली, भरतपुर, सवाईमाधोपुर, सीकर, झुंझुनूं जिलों को फायदा होता।

आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा

यदि कोई सडक़ नेशनल हाईवे बन जाती है तो राज्य सरकार का उस सडक़ पर आने वाला खर्चा बचता है। एक अच्छी सडक़ आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने की संभावना भी बढ़ाती है। जहां से नेशनल हाईवे निकलता है, वहां जमीनों की कीमतें भी बढ़ती है। अच्छी सडक़ पर चलने से ईंधन की बचत भी होती है। वाहनों की टूट-फूट भी कम होती है। कोई भी नेशनल हाईवे में राज्य सडक़ तब्दील होती है तो वह कम से कम दस मीटर चौड़ी हो जाती है। एक नेशनल हाईवे दो लेन से छोटा नहीं होता है। कोई भी सडक़ को नेशनल हाईवे तभी घोषित किया जाता है, जब उसके लिए वाहनों की संख्या जो तय कर रखी है, उतनी वायबिलिटी हो। क्योंकि सडक़ बनेगी तो उससे टोल वसूली भी होगी।
- एम.जी. माहेश्वरी, सार्वजनिक निर्माण विभाग के पूर्व सचिव

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

दिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रियाGST पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, जीएसटी काउंसिल की सिफारिश मानने के लिए बाध्य नहीं सरकारेंपंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ BJP में शामिल, दिल्ली में जेपी नड्डा ने दिलाई पार्टी की सदस्यताअलगाववादी नेता यासीन मलिक आतंकवाद से जुड़े मामले में दोषी करार, 25 मई को होगी अगली सुनवाईज्ञानवापी मस्जिद-श्रृंगार गौरी विवाद : वाराणसी कोर्ट की कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट की रोक, शुक्रवार को होगी सुनवाईAssam Flood Situation: बाढ़ का जायजा लेने पहुंचे BJP विधायक को जवान ने पीठ पर लादकर नाव तक पहुंचायाउदयपुर नव संकल्प पर अमल: अब कांग्रेस भी बनेगी 'प्रोफेशनल', देशभर में 6500 पूर्णकालिक कार्यकर्ता नियुक्त करने की तैयारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.