लगातार पांचवीं हार के बाद 5 एबीवीपी पदाधिकारियों पर कार्रवाई की तैयारी

लगातार पांचवीं हार के बाद 5 एबीवीपी पदाधिकारियों पर कार्रवाई की तैयारी

Santosh Kumar Trivedi | Publish: Sep, 16 2018 10:11:44 AM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news/

जयपुर। राजस्थान विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव में लगातार पांचवीं हार के बाद अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) पांच पदाधिकारियों पर कार्रवाई करने की तैयारी में है। संगठन इन पांचों को ही हार का जिम्मेदार बताकर, उनके सिर ठीकरा फोड़ रहा है। इनमें से दो पदाधिकारी तो विवि के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष हैं। बाकी 3 भी संगठन में महत्वपूर्ण पदों पर रह चुके हैं।

 

कार्रवाई का निर्णय हाल ही हुई एबीवीपी की समीक्षा बैठक में किया गया। कार्यकर्ताओं की आपसी सहमति से ऐसे पांच कार्यकर्ताओं को चिह्नित किया गया है, जिन्हें संगठन ने हार के लिए जिम्मेदार माना है। आधिकारिक जानकारी के अनुसार बैठक में शामिल हुए सभी 80 कार्यकर्ताओं ने कार्रवाई किए जाने के समीक्षा पत्र पर हस्ताक्षर भी कर दिए हैं।

 

सूत्रों के अनुसार इस पत्र में पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष पवन यादव, राजेश मीणा, पूर्व महानगर मंत्री सुनील खटीक, आशीष चोपड़ा व अखिलेश पारीक के नाम लिखे गए हैं। इस पत्र को प्रांत कार्यकारिणी की बैठक में रखा जाएगा। वहां से निर्णय के बाद इसे भाजपा और संघ में भेजने की तैयारी चल रही है।

 

जानकारी के अनुसार बैठक में इन छात्रनेताओं पर संगठन के प्रत्याशियों का सहयोग करने के बजाय समानांतर पैनल उतारने के आरोप लगाए गए हैं। दरअसल, इन पांचों के पास चुनाव में कई महत्पवूर्ण जिम्मेदारी थी। जिसमें पैनल की बैठकें कराने, कार्ययोजना बनाने, चुनाव जिताने व नए वोटर्स को संगठन से जोडऩे का काम दिया गया था।

 

गौरतलब है कि ये पांचों छात्रनेता चुनाव के दौरान पूरे समय प्रत्याशियों के साथ नजर आए थे। उधर, मामले पर इन छात्रनेताओं ने जवाब दिया कि उन्हें समीक्षा बैठक में बुलाया ही नहीं गया। ये आरोप बिल्कुल निराधार हैं। संगठन से कार्रवाई का पत्र उन्हें नहीं मिला है। उन्होंने स्वीकार किया कि संगठन ने प्रत्याशियों को टिकट कार्यकर्ताओं की सहमति से दिए थे।

 

समीक्षा बैठक में कुछ कार्यकर्ताओं के नाम सामने आए हैं। जिन्हें प्रांतीय टीम को भेजा जाएगा।
हुश्यार मीणा, विभाग संयोजक, एबीवीपी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned