राजस्थान के तीनों केंद्रीय मंत्रियों पर फिर बड़ा दारोमदार, ‘भरोसे’ पर खरे उतरने की चुनौती- प्रतिष्ठा दांव पर

देश की सियासत पर फिर अहम् भूमिका में ‘राजस्थान’, सूबे के तीनों केंद्रीय मंत्रियों को मिला हुआ है महत्वपूर्ण टास्क, ममता के ‘गढ़’ में फतह पाने में जुटे गजेन्द्र सिंह शेखावत, तो पुडुचेरी में परिवर्तन लाने के लिए मेघवाल ने संभाली चुनावी कमान, कृषि कानूनों के ज़बरदस्त विरोध के बीच अहम् भूमिका में कैलाश चौधरी



By: nakul

Published: 08 Feb 2021, 11:55 AM IST

जयपुर।

राजस्थान के तीनों केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, अर्जुन राम मेघवाल और कैलाश चौधरी इन दिनों संगठन की दृष्टि से महत्वपूर्ण भूमिका में हैं। केंद्रीय संगठन से मिली ‘भरोसेमंद’ ज़िम्मेदारी पर खरा उतरने की चुनौती के साथ तीनों मंत्रियों की फील्ड पर सक्रियता कुछ ज़्यादा ही बढ़ती दिखाई दे रही है। पार्टी की उम्मीदों पर खरे उतरने के साथ ही तीनों मंत्रियों की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी हुई है।

गजेन्द्र सिंह शेखावत, केंद्रीय जलशक्ति मंत्री
केंद्रीय जलशक्ति मंत्रालय की अति-महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी संभालने वाले जोधपुर सांसद गजेन्द्र सिंह शेखावत भाजपा के मिशन ‘पश्चिम बंगाल फतह’ में अहम् भूमिका निभा रहे हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के ‘गढ़’ में पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने के लिए विगत कुछ दिनों से शेखावत पश्चिम बंगाल में सक्रीय हैं। प्रदेश के प्रवास पर रहकर वे प्रचार और संपर्क अभियानों में अपना पूरा दम-ख़म लगाते दिख रहे हैं।

शेखावत के नेतृत्व में ही बीते दिनों 100 से ज़्यादा टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने भाजपा का दामन थामा है। वहीं वे लगातार अपने बयानों से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर सीधा हमला भी कर रहे हैं। इस दौरान वहां बसे प्रवासी राजस्थानियों को भी भाजपा से जोड़ने की ज़िम्मेदारी शेखावत संभाल रहे हैं। पश्चिम बंगाल में भाजपा की सरकार बनाने के दावे भी कर रहे हैं।


अर्जुन राम मेघवाल, केंद्रीय संसदीय कार्य राज्य मंत्री
केंद्रीय संसदीय कार्य राज्य मंत्री व बीकानेर सांसद अर्जुन राम मेघवाल को भाजपा केंद्रीय संगठन ने हाल ही पुडुचेरी राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव प्रभारी की महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी सौंपी है। वे बीते दो दिनों से पुडुचेरी प्रवास पर हैं और पार्टी के दिए दायित्व के प्रति सक्रीय दिखाई दे रहे हैं। पुडुचेरी में फिलहाल कांग्रेस गठबंधन सरकार है, लिहाजा यहाँ भी भाजपा को परिवर्तन लाना है।

ऐसे में पार्टी आलाकमान ने मेघवाल पर बड़ा भरोसा जताते हुए उन्हें इस एकमात्र केंद्र शासित प्रदेश में पार्टी पताका फहराने की कमान सौंपी है। यही वजह है कि पुडुचेरी में पार्टी की जीत को लेकर उम्मीदों के साथ मेघवाल की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी हुई है।

चुनाव प्रभारी होने के नाते मेघवाल के पास चुनाव में भाजपा की जीत के लिए रणनीति बनाने से लेकर जिताऊ उम्मीदवारों को टिकट देना, राज्य इकाई में चल रही नेताओं-कार्यकर्ताओं की नाराजगी को दूर करना, विरोधी दलों में सेंधमारी करना और चुनाव प्रचार अभियान के दौरान पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने की महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी है।


कैलाश चौधरी, केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री
केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री व बाड़मेर सांसद कैलाश चौधरी भी इन दिनों ‘फील्ड’ पर ज़्यादा एक्टिव दिखाई दे रहे हैं। कृषि कानूनों के पुरजोर विरोध के बीच चौधरी मंत्रालय की ज़िम्मेदारी तो निभा ही रहे हैं, इसके साथ ही वे गांव-गांव जाकर इन कानूनों के फायदे भी गिनाते दिख रहे हैं। देश के बाद अब विदेशों की भी निगाह कृषि कानूनों पर सरकार और किसानों के बीच जारी गतिरोध पर टिकी हुई हैं। ऐसे में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र तोमर के साथ ही राज्य मंत्री के तौर पर बाड़मेर सांसद महत्वपूर्ण भूमिका में दिखाई दे रहे हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned