RU: आरटीआई में शिक्षकों की लापरवाही सामने आई तो हुई थी कार्रवाई, अब कुलपति ने लगाई रोक

By: Arvind Palawat

Published: 03 Feb 2020, 01:09 PM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India
1/2

जयपुर। राजस्थान यूनिवर्सिटी प्रशासन परीक्षा कार्यों में लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों के खिलाफ की गई अपनी ही कार्रवाई पर बैकफुट पर आ गया है। दरअसल, उत्तर पुस्तिकाओं की चैकिंग में लापरवाही बरतने वाले 120 शिक्षकों को एग्जाम प्लानिंग एवं मॉनिटरिंग कमेटी की बैठक में हुए निर्णय के आधार पर एक साल के लिए परीक्षा कार्यों से बाहर किया गया था। लेकिन, इन शिक्षकों में कई शिक्षक राजस्थान यूनिवर्सिटी के भी थे। ऐसे में शिक्षकों के दबाव के चलते फिलहाल राजस्थान यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रोफेसर आरके कोठारी ने परीक्षा कार्यों में लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों पर की गई कार्रवाई को स्थगित कर दिया है। साथ ही इस मामले को आगामी एग्जाम प्लानिंग एवं मॉनिटरिंग कमेटी के समक्ष रखने के आदेश जारी किए है।
गौरतलब है कि विभिन्न कक्षाओं की पिछले साल हुई परीक्षाओं की उत्तर-पुस्तिकाओं के मूल्यांकन में परीक्षकों की ओर से की गई लापरवाही सामने आई थी। इसमें अंकों के योग की त्रुटि, प्रश्न के किसी भाग का मूल्यांकन न किया जाना, पोर्टल पर अंकों को गलत अंकित करना सहित अन्य खामियां पाई गई। इस पर कमेटी की अनुशंषा पर इन परीक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की गई। वहीं, आरयू के कुछ शिक्षक नेताओं ने इस कार्रवाई का विरोध करना शुरू कर दिया था। इस मामले को लेकर शिक्षकों ने कुलपति प्रो.आर. के. कोठारी से मुलाकात कर इस कार्रवाई को रोकने की मांग की थी।

आरटीआई में हुआ था खुलासा
सूत्रों के अनुसार जिन शिक्षकों को परीक्षा कार्यों से बहिष्कृत किया गया था, उनकी लापरवाही का खुलासा आरटीआई के तहत उत्तरपुस्तिकाओं में हुआ था। दरअसल, जब परीक्षार्थियों ने आरटीआई से कॉपी निकलवाई और उसमें इस तरह की गलती सामने आई तो उन्होंने यूनिवर्सिटी से संपर्क किया। इसके बाद कमेटी ने यह कार्रवाई की थी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned