scriptrajasthan vidhansabha question hour opposition attacked gehlot govern | राजस्थान विधानसभा : प्रश्नकाल में सुनाई दी जनहित से जुड़े मुद्दों की गूंज, सरकार को घेरने की ताक में दिखा विपक्ष | Patrika News

राजस्थान विधानसभा : प्रश्नकाल में सुनाई दी जनहित से जुड़े मुद्दों की गूंज, सरकार को घेरने की ताक में दिखा विपक्ष

राजस्थान विधानसभा : प्रश्नकाल में सुनाई दी जनहित से जुड़े मुद्दों की गूंज, सरकार को घेरने की ताक में दिखा विपक्ष

जयपुर

Published: March 11, 2022 03:16:34 pm

जयपुर।

राज्य विधानसभा में आज प्रश्नकाल सत्र में जनहित से जुड़े कई विषयों पर विधायकों द्वारा सवाल पूछे गए जिसका संबंधित विभाग के मंत्रियों ने जवाब दिए। इस दौरान विपक्ष ने कुछ सवालों पर सरकार को घेरने की कोशिश की।सत्र के दौरान उदयपुर ज़िले में DMFT में जमा राशि से हुए विकास कार्यों के अलावा प्रदेश में अल्पसंख्यक आयोग एवं विकास निगम के गठन का मामला और सामोद हनुमान मंदिर में रोपवे का मामला उठा।

rajasthan vidhansabha question hour opposition attacked gehlot govern

DMFT राशि पर घिरी सरकार!

विधायक अमृतलाल ने उदयपुर ज़िले में DMFT में जमा राशि से हुए विकास कार्यों का मामला उठाया। जवाब में मंत्री प्रमोद जैन भाया ने कहा कि सलूंबर, सराडा, जयसमंद, सेमारी और झल्लारा में राशि व्यय नहीं की गई है। DMFT के तहत 536 लाख रूपए के कार्य स्वीकृत हुए हैं, लेकिन राशि व्यय ही नहीं की गई है। सम्लुंबर में तीन वित्तीय वर्षों में 9.39 करोड़ स्वीकृत हुए थे, इनमें से 5 करोड़ 36 लाख ही खर्च किये गए। मंत्री ने शेष राशि जल्द ही खर्च करने का आश्वासन दिया।


नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने आपत्ति उठाते हुए कहा कि जो पैसा नर्सरी और पर्यावरण सुधार के लिए वर्ष 2018-19 में स्वीकृत हुआ, वो भी अभी तक खर्च नहीं किया गया है। इसके जवाब में मंत्री भाया ने कहा कि कोरोना काल के कारण वर्ष 2019-20 और वर्ष 2020-21 की बैठकें नहीं हो सकीं। इस बीच कटारिया ने कहा कि बैठकों की सूचना ही नहीं दी जाती है और बैठक होने के बाद नोटिस भेजकर कहा जाता है बैठक हो गई है।

मंत्री-विधायक की जानकारी में दिखा विरोधाभास

विधायक बाबूलाल नागर ने सामोद हनुमान मंदिर में रोपवे का मुद्दा उठाया। जवाब में पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने कहा कि रोपवे की अनुमति के लिए वन विभाग को पत्र लिखा गया है। इसपर नागर ने कहा कि ये भूमि जब वन विभाग की है ही नहीं तो फिर एनओसी और अनुमति लेने की ज़रुरत क्यों पड़ रही है? मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने जवाब में कहा कि जिला कलेक्टर की रिपोर्ट में ये भूमि वन विभाग की है, फिर भी इसे लेकर जांच करा लेंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.