मं​त्री और अधिका​री के नहीं होने पर कटारिया और राठौड़ हुए नाराज, कहा: क्या दीवारों को सुनाए अपनी बात

राजस्थान विधानसभा में शून्यकाल : कटारिया बोले महत्वपूर्ण चर्चा चल रही, ना मंत्री मौजूद और ना ही अधिकारी, अध्यक्ष ने संसदीय कार्य मंत्री को मंत्रियों को उपस्थित रखने के निर्देश

विकास जैन / जयपुर। राजस्थान विधानसभा ( Rajasthan Vidhansabha ) में शून्यकाल ( Zero Hour ) में चर्चा के दौरान बुधवार को नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ( Gulab Chand Kataria ) ने कहा कि इतने गंभीर विषय चल रहे हैं, लेकिन ना तो मंत्री मौजूद हैं और ना ही संबंधित महकमों के अधिकारी दीर्घा में हैं। उप नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ( Rajendra Rathore ) ने कहा कि सदस्य बोल रहे हैं, संबंधित मंत्री नदारद हैं जबकि मामले म़ंत्रियों के संज्ञान में पहले से होते हैं। उन्होंने कहा कि जब यहां कोई नहीं होगा तो क्या सदस्य दीवारों को सुनाएंगे। इस पर अध्यक्ष ने कहा कि आप बोल रहे हैं यह रिकार्ड हो रहा है। उन्होंने संसदीय कार्य मंत्री से मंत्रियों को सदन में उपस्थित रहने के लिए कहा।

गंभीर विषय पर चर्चा

कटारिया ने कहा कि 'किसानों का बीमा नहीं हो पाया', यह महत्वपूर्ण सवाल था, लेकिन इस पर गंभीरता नहीं बरती गई। इस पर अध्यक्ष जोशी ने कहा कि प्रश्न की सीमा होती है। इन सभी के लिए अलग अलग समय निर्धारित होता है। निश्चित तौर पर यह गंभीर विषय है, जिस पर चर्चा के लिए सब साथ बैठकर बात करेंगे।

गहलोत और पायलट में होती रही मंत्रणा

सदन में प्रश्नकाल के दौरान नारेबाजी और शोरगुल के दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ( CM Ashok Gehlot ) और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ( Sachin Pilot ) के बीच मंत्रणा चल रही थी। कुछ देर में परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ( Pratap Singh Khachariyawas ) भी वहां पहुंचे। प्रताप सिंह ने पायलट और गहलोत से अलग अलग कुछ देर बात की।

Show More
pushpendra shekhawat Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned