जयपुर सहित कई जिलों में झमाझम, गगरीन बांध क्षेत्र में 10 इंच बारिश, नदियां उफान पर

राजधानी जयपुर सहित प्रदेश के कई जिलों में सावन के पहले सोमवार को बादल जमकर बरसे। झालावाड़ के पिड़ावा क्षेत्र में गगरीन बांध क्षेत्र में 24 घण्टे में 10 इंच बारिश दर्ज की गई है। गगरीन बांध पर चादर चल रही है।

By: kamlesh

Published: 26 Jul 2021, 07:39 PM IST

जयपुर। राजधानी जयपुर सहित प्रदेश के कई जिलों में सावन के पहले सोमवार को बादल जमकर बरसे। झालावाड़ के पिड़ावा क्षेत्र में गगरीन बांध क्षेत्र में 24 घण्टे में 10 इंच बारिश दर्ज की गई है। गगरीन बांध पर चादर चल रही है। जिले में चंवली, आहू, कालीसिंध आदि नदियां उफान पर रही। मध्यप्रदेश में हो रही बरसात से राजस्थान-मध्यप्रदेश की सीमा पर बहने वाली चम्बल व शिप्रा नदी उफान पर चल रही है। कालीसिंध बांध के तीन गेट खोलकर 35 हजार क्यूसेक पानी की निकासी की गई। गागरोन दरगाह पर जियारत करने गए 98 जायरीन दूसरे दिन भी फंसे रहे।

गांधीसागर के जंगल क्षेत्र में रविवार शाम हुई भारी बारिश से ताकली नदी में पानी की आवक हुई। जिससे नदी में उफान आ गया। खेड़ली की रपट पर तीन-चार फीट पानी बहने के कारण खेडली-अमजार मार्ग सोमवार अलसुबह पांच बजे से बंद हो गया, जो दोपहर एक बजे पानी उतरने पर बहाल हुआ। माउंट आबू में झरने बहने लगे।

प्रतापगढ़ जिले में गत चार दिनों से लगातार हो रही बारिश के बाद कई बांधों में पानी की आवक बढऩे लगा। पीपलखूंट में सवा पांच इंच और अरनोद में पौने छ: इंच बारिश दर्ज की गई। जिससे कई नदियां उफान पर है। जिले की प्रमुख शिवना नदी भी उफान पर है। झुंझुनूं जिले के चिड़ावा कस्बे में सावन के पहले सोमवार को 25 एमएम बरसात हुई।

वहीं जयपुर में भीषण उमस और गर्मी से परेशान लोगों के लिए आसमान से राहत बरसी। दोपहर में लोग पसीने से तरबतर रहे। दोपहर बाद मौसम का मिजाज कुछ पलटा और बादल छाने के साथ नम हवाएं भी चलने लगी। बाद में बादल बरसे भी। जिससे लोगों को गर्मी से कुछ राहत मिली।

जयपुर सहित कई जिलों में झमाझम, गगरीन बांध क्षेत्र में 10 इंच बारिश, नदियां उफान पर

सावन में लगी झड़ी
हाड़ौती में सावन के पहले सोमवार को बादल जमकर बरसे। कोटा में दोपहर बाद कुछ देर के लिए तेज बारिश हुई। गांधीसागर के जंगल क्षेत्र में रविवार शाम हुई भारी बारिश से ताकली नदी में पानी की आवक हुई। जिससे नदी में उफान आ गया। खेड़ली की रपट पर तीन-चार फीट पानी बहने के कारण खेडली-अमजार मार्ग सोमवार अलसुबह पांच बजे से बंद हो गया, जो दोपहर एक बजे पानी उतरने पर बहाल हुआ। बूंदी, नैनवां, केशवरायपाटन, नोताड़ा में जोरदार बारिश हुई। बीते चौबीस घंटों में बूंदी में 18, तालेड़ा में 17, नैनवां में 55, केशवरायपाटन में 19 एमएम बारिश दर्ज की गई। आकोदा के बालाजी के नाले में चार फीट आ गया। जिससे सड़क के दोनों तरफ वाहन रुकने से करीब दो घंटे जाम लगा।

जयपुर सहित कई जिलों में झमाझम, गगरीन बांध क्षेत्र में 10 इंच बारिश, नदियां उफान पर

गागरीन बांध पर चादर चली, चम्बल व शिप्रा नदी उफान पर
झालावाड़ जिले में लगातार दूसरे दिन सोमवार को दिनभर बारिश का दौर जारी रहा। झालावाड़ जिले तथा मध्यप्रदेश में जोरदार बारिश होने से क्षेत्र में बहने वाली प्रमुख नदियों उफान पर चल रही है। पिड़ावा क्षेत्र में गागरीन बांध क्षेत्र में 24 घंटे में 10 इंच बारिश दर्ज की गई है। गगरीन बांध पर चादर चल रही है। जिले में चंवली, आहू, कालीसिंध आदि नदियां उफान पर रही। मध्यप्रदेश में हो रही बरसात से राजस्थान-मध्यप्रदेश की सीमा पर बहने वाली चम्बल व शिप्रा नदी उफान पर चल रही है। कालीसिंध बांध के तीन गेट खोलकर 35 हजार क्यूसेक पानी की निकासी की गई।

दूसरे दिन भी फंसे रहे जायरीन
झालावाड़ शहर के पास स्थित गागरोन की पुलिया पर करीब 23 फीट पानी बह रहा है। इस कारण गागरोन दरगाह पर जियारत करने गए 98 जायरीन दूसरे दिन भी फं से रहे। नदी में बहाव तेज होने के कारण प्रशासन ने दरगाह में ही सुरक्षित रहने को कहा है। जायरीनों की ठहरने और भोजन की व्यवस्था की गई है।

जयपुर सहित कई जिलों में झमाझम, गगरीन बांध क्षेत्र में 10 इंच बारिश, नदियां उफान पर

माउंट आबू में साढ़े तीन इंच बारिश, झरने बहे
हरीतिमा की चादर ओढ़े पर्यटन स्थल माउंट आबू में सोमवार अलसुबह हुई झमाझम बारिश से वादियों में झरने बहने लगे। माउंट आबू-आबूरोड मार्ग से लेकर गुरुशिखर तक सड़क के दोनों ओर जगह-जगह पहाडिय़ों से बहते झरनों को निहारने का पर्यटकों ने आनंद लिया।

कांठल में मूसलाधार, उफनने लगी नदियां
प्रतापगढ़. जिले में गत चार दिनों से लगातार हो रही बारिश के बाद कई बांधों में पानी की आवक बढऩे लगी है। पीपलखूंट में सवा पांच इंच और अरनोद में पौने छ: इंच बारिश दर्ज की गई। जिससे कई नदियां उफान पर है। जिले की प्रमुख शिवना नदी भी उफान पर है। ऐसे में कई जगहों पर मार्ग बंद हो गए है।

जयपुर सहित कई जिलों में झमाझम, गगरीन बांध क्षेत्र में 10 इंच बारिश, नदियां उफान पर

आगे क्या

उत्तर पश्चिमी राजस्थान पर बने परिसंचरण तंत्र बना हुआ है। बुलेटिन के अनुसार मंगलवार को भरतपुर संभाग के जिलों में कहीं-कहीं मध्यम से तेज बारिश व एक दो स्थानों पर भारी बारिश होने की संभावना है। 28 से 30 जुलाई के दौरान मानसून द्रोणिका रेखा के हिमालय की और खिसकने से बारिश की गतिविधियो में कमी आएगी। जिससे 28 से 31 जुलाई तक मानसून की कमजोर पड़ सकता है। इस अवधि में अभी तक भारी बारिश का अलर्ट नहीं है। हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश की संभावना बन सकती है।

सोमवार को कहां-कितनी बारिश
जयपुर -------------- 12.7
कोटा ---------------- 2.8
चुरू --------------- 14.4
पिलानी -------------- 0.9
चित्तौडग़ढ़ ------------- 2.0
बूंदी ------------------- 30.0

IMD alert

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned