मशहूर पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ELECTRONIC MEDIA को बताया बिजनेस मॉडल, कहा जो बिकेगा वो चलेगा

मशहूर पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ELECTRONIC MEDIA को बताया बिजनेस मॉडल, कहा जो बिकेगा वो चलेगा

Nikhil Sharma | Publish: Sep, 21 2015 12:26:00 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

ये बेइमानों का नहीं ईमानदारों का देश है

गुफ्तगू सत्र के दौरान वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई कहा कि मैं नहीं मानता कि पूरा मीडिया बिका हुई है, ये देश बेइमानों का देश नहीं है बल्कि इस देश की अधिकांश जनता ईमानदार है, ईमानदारी के कारण ही देश तरक्की कर रहा है। मीडिया जनता पर निर्भर है किसी कॉर्पोरेट पर निर्भर नहीं हैं, हां कुछ मीडिया हाउस में कॉर्पोरेट के कारण समस्या है लेकिन उनका भी समाधान होगा।

इस सत्र में सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी अदिति मेहता के सवालों का जवाब देते हुए सरदेसाई ने कहा कि अब डिजिटल मीडिया की ताकत बढ़ रही है। आम जनता को भी अब सिटीजन जर्नलिस्ट बनना होगा। उन्होंने माना कि कुछ मीडिया हाउस पर कॉर्पोरेट्स का दबाव है।

बिल्डर्स मीडिया हाउस बना रहे हैं ताकि वे मीडिया की आड़ में अपने काम निकाल सकें। राजनीतिक दलों ने चुनावों में पेड न्यूज के कैंसर को जन्म दिया है। लेकिन सभी मीडिया हाउस में ऐसा नहीं हैं। हाल ही में कुछ कॉर्पोरेट्स ने एक ग्रुप बनाया है जो चाहते हैं कि देश का मीडिया पारदर्शिता और ईमानदारी से काम करे।

आज का बकरा कौन

सरदेसाई ने कहा कि इलेक्ट्रोनिक मीडिया बिजनेस मॉडल बन गया है, जो बिकेगा वो चलेगा। इससे पत्रकारिता की नई परिभाषा बनी है और पत्रकारों की आत्मा को ही समाप्त कर दिया है। विज्ञापनदाता का भी दबाव होता है कि यदि चैनल की टीआरपी ज्यादा होगी तो ही वह विज्ञापन देगा।

 इसलिए न्यूज चैनल में प्रतिदिन आज का बकरा या आज का मुर्गा कौन तय कर उसे ही दिनभर अलग अलग अंदाज में दिखाया जाता है। ऐसे में दर्शकों को खुद अपने आप से सवाल करना चाहिए कि वे क्या देखना पसंद करेंगे।


राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned