राजस्थली में राजीविका के विक्रय कार्नर की शुरूआत

हस्तकला ( handicraft, handicrafts, ) , हस्तशिल्प, मीनाकारी एवं अन्य राजस्थानी उत्पादों की उपलब्धता वाले राजस्थली’’ शोरूम में बुधवार से राजस्थान ग्रामीण आजीविका विकास परिषद् (राजीविका) ( Rajasthan Rural Livelihoods Development Council ) के विक्रय कार्नर शुरू किया गया है।

By: Ashish

Published: 06 Jan 2021, 08:46 PM IST

जयपुर
हस्तकला, हस्तशिल्प, मीनाकारी एवं अन्य राजस्थानी उत्पादों की उपलब्धता वाले राजस्थली’’ शोरूम में बुधवार से राजस्थान ग्रामीण आजीविका विकास परिषद् (राजीविका) के विक्रय कार्नर शुरू किया गया है। कोविड से बचाव हेतु इस बार दीपावली पर गोबर के दीपक बनाकर प्रदुषण मुक्त दीपावली की अलख जगाने की पहल करने वाले महिला स्वंय सहायता समूह की सदस्य बगरू खुर्द की कोमल ने इस बिक्री काउंटर का फीता काट कर शुभारम्भ किया।
राजीविका के तहत महिला स्वंय सहायता समूहों के इस बिक्री काउंटर के शुभारम्भ के मौके पर ठेठ ग्रामीण महिलाओं की हौंसला अफजाई करने ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार सिंह एवं ग्रामीण विकास विभाग के शासन सचिव एवं मनरेगा आयुक्त पीसी किशन और राजीविका की स्टेट मिशन डायरेक्टर शुचि त्यागी भी पहुॅचें।
काउंटर पर मिलेंगे ये उत्पाद
राजीविका के बिक्री काउंटर में उन महिला स्वंय सहायता समूहों की सदस्यों के फोटो लगाए जाएंगे, जिनके द्वारा उत्पाद बनाये गये हैं। साथ ही उनकी कला व तकनीकी और प्रक्रिया आदि की भी जानकारी प्रदर्शित की जाएगी ताकि आने वाले देशी विदेशी पर्यटकों को राजस्थान की प्रतिभाओं, उनकी विधाओं, कलाओं के बारे में जानकारी मिल सके। स्टेट मिशन निदेशक राजीविका शुचि त्यागी ने बताया कि विक्रय कार्नर में ब्लू पॉटरी, पेपर प्रोडक्टस, गोटा-पत्तती की साड़ियां, लकड़ी से बने खिलौने एवं अन्य कला कृतियां, सवाई माधोपुर की ब्लैक पॉटरी, राजसमंद की मोलेला पॉटरी, मीनाकारी आर्टिकल्स, भरतपुर के जूट प्रोडेक्टस, दौसा की दरीयां, आर्टिफिशियल ज्वैलरी, चमड़े की जूतियां और बैग्स, चूरू व बूंदी बंधेज के दुपट्टे, उदयपुर के साफे, हर्बल साबुन आदि प्रदर्शित किये गये हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned