राजस्थान: किसान आंदोलन को आज जोधपुर से दी जा रही 'धार', महापंचायत करने पहुंचे Rakesh Tikait

प्रदेश में जारी है केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में किसान आंदोलन, राजस्थान में सिलसिलेवार हो रही हैं किसान महापंचायतें, किसान नेता राकेश टिकैत की आज जोधपुर के पीपाड़ में महापंचायत, 3 मार्च को नागौर की महापंचायत के बाद लग गया था ‘ब्रेक’, कानूनों की वापसी नहीं होने तक आंदोलन जारी रखने का है आह्वान

 

 

By: nakul

Published: 12 Mar 2021, 11:44 AM IST

जयपुर।

केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदेश में किसान आंदोलन की ‘गर्माहट’ जारी है। इसी क्रम में आज किसान नेता राकेश टिकैत एक बार फिर किसान महापंचायत के ज़रिये किसानों की आवाज़ बुलंद करने राजस्थान में हैं। श्रंखलाबद्ध किसान महापंचायतों के तहत आज जोधपुर के पीपाड़ शहर में किसान महापंचायत बुलाई गई है। इस महापंचायत में टिकैत के अलावा विभिन्न किसान संगठनों के प्रतिनिधि भी शामिल हो रहे हैं।

 

गौरतलब है कि किसान नेता राकेश टिकैत के नेतृत्व में प्रदेश भर में एक के बाद एक किसान महापंचायतें हो रही हैं। पिछली महापंचायत 3 मार्च को नागौर में हुई थी। उसके बाद लगभग एक सप्ताह के अंतराल के बाद जोधपुर के पीपाड़ में किसान महापंचायत बुलाई गई है।

 

जोधपुर के बाद सीधे पश्चिम बंगाल जाएंगे टिकैत
किसान नेता राकेश टिकैत जोधपुर के पीपाड़ में महापंचायत करने के बाद सीधे पश्चिम बंगाल के लिए रवाना हो जायेंगे। दरअसल, केंद्र की भाजपा सरकार को नुकसान पहुंचाने के मकसद से संयुक्त किसान मोर्चा ने बंगाल में किसान आंदोलन तेज़ करने का फैसला लिया है। इसके तहत कल से पश्चिम बंगाल में किसान रैलियां शुरू होने जा रही हैं।

 

टिकैत ने कल एक मीडिया इंटरव्यू में कहा है कि 13 मार्च से पश्चिम बंगाल के नंदीग्राम और कोलकाता में किसान पंचायतें रखी गई हैं। संयुक्त किसान मोर्चा के नेता-पदाधिकारी वहां के किसानों से बात करेंगे और एमएसपी से जुड़े विभिन्न विषयों पर चर्चा करेंगे।

 

फिर 17 और 23 को होंगी महापंचायत
कृषि कानूनों के विरोध में जारी किसान आंदोलन के तहत आज जोधपुर के पीपाड़ में किसान महापंचायत के बाद 17 मार्च को श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ के संगरिया में किसान महापंचायत होगी, जबकि 23 मार्च को राजधानी जयपुर के विद्याधर नगर स्टेडियम में भी महापंचायत का आयोजन होना तय हुआ है।

 

संयुक्त किसान मोर्चा ने जारी किए आगामी कार्यक्रम
किसान आंदोलन की अगुवाई कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा ने कृषि कानूनों के विरोध में आगामी कार्यक्रम जारी कर दिए हैं। आंदोलन को ‘धार’ देते हुए 15 मार्च से लेकर 28 मार्च तक अलग-अलग तरह से केंद्र सरकार का विरोध जताया जाएगा।

 

- 15 मार्च- पेट्रोल-डीज़ल की बढ़ी कीमतों और निजीकरण के खिलाफ ट्रेड यूनियनों के साथ मिलकर धरने-प्रदर्शन होंगे
- 19 मार्च- कृषि कानूनों के विरोध में मंडियों के बाहर धरने-प्रदर्शन होंगे
- 23 मार्च- शहीदी दिवस पर भगत सिंह की तर्ज पर पगड़ी बांधकर अनूठा प्रदर्शन होगा
- 26 मार्च- सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक चक्काजाम करके होगा विरोध
- 28 मार्च- होली के दिन तीनों कृषि कानूनों की पतियाँ जलाकर होगा विरोध

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned