आराध्य गोविन्ददेवजी को बांधी राखी, भक्तों ने ऑनलाइन किए दर्शन

rakshabandhan festival celebrate : भाई-बहन के पवित्र प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन का पर्व सोमवार को प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। श्रावण पूर्णिमा पर को बहनों ने भाइयों की कलाई पर स्नेह का धागा बांधा। प्रेम के इस प्रतीक पर्व के गवाह इन कच्चे धागों में सच्चे संकल्प गूंथे और अपनी रक्षा का वादा लिया। वहीं छोटी काशी के मंदिरों में भी रक्षा बंधन का पर्व श्रद्धा व भक्तिभाव के साथ मनाया गया। मंदिर परिवार की ओर से ठाकुरजी को रक्षा सूत्र अर्पित किए गए।

By: Devendra Singh

Updated: 03 Aug 2020, 11:05 PM IST

जयपुर। भाई-बहन के पवित्र प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन का पर्व सोमवार को प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। श्रावण पूर्णिमा पर को बहनों ने भाइयों की कलाई पर स्नेह का धागा बांधा। प्रेम के इस प्रतीक पर्व के गवाह इन कच्चे धागों में सच्चे संकल्प गूंथे और अपनी रक्षा का वादा लिया। वहीं छोटी काशी के मंदिरों में भी रक्षा बंधन का पर्व श्रद्धा व भक्तिभाव के साथ मनाया गया। मंदिर परिवार की ओर से ठाकुरजी को रक्षा सूत्र अर्पित किए गए। कोरोना संक्रमण के चलते इस बार भक्त ठाकुरजी को रक्षा सूत्र अर्पित नहीं कर पाए। शहर में कोरोना के चलते पिछले चार माह से मंदिरों में भक्तों के लिए पट बन्द है। इसलिए भक्तों को ऑनलाइन ही ठाकुरजी के दर्शन करवाए गए।

आराध्यदेव गोविन्ददेवजी के महंत अंजन कुमार गोस्वामी और प्रबंधक मानस गोस्वामी ने ठाकुरजी और राधा रानी की कलाई पर मोगरे की कली व रेशम की डोर से बनी राखी बांधी। इसके बाद शालिगरामजी और सखियों को भी राखियां बांधी गई। राखी बांधने से पहले फूल और मोली की राखी बांधी गई। रक्षाबंधन पर ठाकुजी को धवल पोशाक धारण करवा कर आभूषणों से अलंकृत होकर भक्तों को दर्शन दिए। इसके बाद ठाकुरजी को कचोरी, लड्डू, मिठी मठड़ी, पंचमेवा व फलों का भोग अर्पित किया गया। । इस बार कोरोना संक्रमण के कारण भक्त ठाकुरजी को रक्षा सूत्र अर्पित नहीं कर सके।

सुभाष चौक पानों का दरीबा स्थित सरस निकुंज में पीठाधीश्ठावर अलबेली माधुरीशरण के सान्निध्य में प्रवीण बड़े भैया ने ठाकुर जी को श्रृंगार झांकी के बाद राखी धारण करवाई। चौड़ा रास्ता स्थित राधा दामोदरजी मंदिर, पुरानी बस्ती स्थित गोपीनाथ जी का मंदिर, चांदपोल स्थित रामचंद्र जी का मंदिर, देवस्थान विभाग के ब्रजनिधिजी मंदिर, आनंदकृष्ण बिहारीजी, बड़ी चौपड़ स्थित लक्ष्मीनारायण बाईजी के मंदिर में भी ठाकुरजी को रक्षा स़ूत्र अर्पित किए गए। प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय किशनपोल बाजार में बीके सुषमा बहन के नेतृत्व में रक्षाबंधन का पर्व मनाया गया।

Corona virus
Devendra Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned