डिलीवरी के चलते पत्नी अस्पताल में, बेटा पड़ोसी के घर, फिर भी फर्ज निभा रहा ये लैब टेक्नीशियन, और भी हैं ऐसे ही कर्मवीर

कोरोनावायरस से जंग लड़ रहे कर्मवीर अपने परिजनों की चिंता छोड़कर दूसरों की जान बचाने में जुटे हैं। ऐसे ही कर्मवीर हैं जिला अस्पताल श्योपुर में पदस्थ लैब टेक्नीशियन अरविंद कुमार पटेल। अरविंद की पत्नी डिलीवरी के चलते जिला अस्पताल में भर्ती है, जबकि 8 साल का बड़ा बेटा पड़ोसी के घर छोड़ रखा है...

By: dinesh

Updated: 10 Apr 2020, 01:34 PM IST

जयपुर/श्योपुर। कोरोनावायरस से जंग लड़ रहे कर्मवीर अपने परिजनों की चिंता छोड़कर दूसरों की जान बचाने में जुटे हैं। ऐसे ही कर्मवीर हैं जिला अस्पताल श्योपुर में पदस्थ लैब टेक्नीशियन अरविंद कुमार पटेल। अरविंद की पत्नी डिलीवरी के चलते जिला अस्पताल में भर्ती है, जबकि 8 साल का बड़ा बेटा पड़ोसी के घर छोड़ रखा है और खुद जिला अस्पताल के ब्लड बैंक और लैब में ड्यूटी कर अपना फर्ज निभा रहे हैं। लैब टेक्नीशियन अरविंद कुमार पटेल ने बताया कि पत्नी की डिलीवरी ऑपरेशन के जरिए हुई। इस दौरान पत्नी ने बेटे को जन्म दिया। अभी यह दोनों जिला अस्पताल के मेटरनिटी वार्ड में भर्ती है।


करुणा को मिटाकर ही घर आएंगे
सीकर जिले के सूसोट गांव निवासी संजू कुमारी पिछले 5 साल से एसएमएस हॉस्पिटल जयपुर की इमरजेंसी मेडिकल आईसीयू में सेवाएं दे रही है। पति जगदीश प्रसाद खीचड़ अध्यापक की तैयारी कर रहे हैं। संजू पिछले 30 दिनों से ही घर नहीं आ पाई है। उनके 3 साल की बेटी तान्वी चौधरी रोज फोन पर एक ही सवाल पूछती है मामा कोरोना कब जाएगा। आप कब आओगी। आपको लेने मैं और पापा जयपुर आ रहे हैं। इस पर संजू कहती है, बेटा आप को पुलिस नहीं आने देगी। हम जल्द कोरोना को मिटाकर ही आएंगे। आप और पापा घर पर ही पढ़ाई करो।

कंप्यूटर चलाने वाले हाथ बनाने लगे मास्क
उदयपुर पंचायत समिति में ई-मित्र संचालन करते हुए कंप्यूटर पर काम करने वाले सुनील कुमार इन दिनों लॉकडाउन लागू होने के बाद घर ही बैठकर लोगों की सेवा में लगे हैं। जैसे ही उन्हें मालूम हुआ कि मास्क आसानी से नहीं मिल रहे हैं तो सुनील ने अपने घर पर सिलाई मशीन निकालकर मास्क बनाना शुरू कर दिया। सेवा कार्य अपने छोटे बेटे को भी साथ लिया और अपनी जेब से ही मास्क तैयार कर गांव से ढ़ाणी तक लोगों के पास पहुंचाए। यह कर्मवीर उदयपुर जिले के सलूंबर तहसील के हैं। सलूंबर से करीब 3 किलोमीटर दूर ईसरवास रावान गांव में रहने वाले सुनील कुमार सालवी मास्क बना लोगों के पास पहुंचा रहे हैं। सलूंबर पंचायत समिति में ई-मित्र का संचालन करने वाले सुनील लॉकडाउन के बाद सबकी तरह घर में ही कैद हो गए। उन्होंने पहले तो खाद सामग्री पहुंचाने का सेवा कार्य किया, बाद में मास्क की कालाबाजारी और गांव में मेडिकल की सुविधा नहीं होने से खुद ही कपड़ा लाए और मास्क बनाना शुरू कर दिया।

COVID-19 Indian Real heroes
Show More
dinesh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned