scriptReet Exam Paper Leak Govind Singh Dotasara CBI Cm Ashok Gehlot | राजनीतिक संरक्षण में हुआ है रीट परीक्षा का पेपर आउट,मंत्रिमंडल तक जुड़े हैं तार-राठौड़ | Patrika News

राजनीतिक संरक्षण में हुआ है रीट परीक्षा का पेपर आउट,मंत्रिमंडल तक जुड़े हैं तार-राठौड़

उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने ट्वीट कर कहा कि रीट पेपर लीक में डीपी जारोली द्वारा यह स्वीकारना कि ''बिना राजनीतिक संरक्षण के पेपर लीक नहीं हो सकता। यह काम 100 प्रतिशत राजनीतिक संरक्षण में ही हुआ है। इससे साबित होता है कि सत्ता में ऊंचे ओहदों पर बैठे लोग भी इसमें शामिल है।

जयपुर

Updated: January 29, 2022 06:14:16 pm

उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने ट्वीट कर कहा कि रीट पेपर लीक में डीपी जारोली द्वारा यह स्वीकारना कि ''बिना राजनीतिक संरक्षण के पेपर लीक नहीं हो सकता। यह काम 100 प्रतिशत राजनीतिक संरक्षण में ही हुआ है। इससे साबित होता है कि सत्ता में ऊंचे ओहदों पर बैठे लोग भी इसमें शामिल है।
राजनीतिक संरक्षण में हुआ है रीट परीक्षा का पेपर आउट,मंत्रिमंडल तक जुड़े हैं तार-राठौड़
राजनीतिक संरक्षण में हुआ है रीट परीक्षा का पेपर आउट,मंत्रिमंडल तक जुड़े हैं तार-राठौड़
राठौड़ ने कहा कि एसओजी तत्काल प्रभाव से जारोली को गिरफ्तार करें और रिमांड पर लेकर यह पूछताछ करें कि रीट पेपर लीक मामले में राजनीतिक संरक्षण में कौन-कौन वो बड़े किरदार है जिन्होंने पेपर लीक करवाकर लाखों अभ्यर्थियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया है। राठौड़ ने कहा कि रीट पेपर लीक मामले में चौतरफा घिरने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बजट सत्र में नकल व पेपर लीक के संबंध में कठोर प्रावधान लाने की बात कह रहे हैं, लेकिल मुख्यमंत्री ने विगत वर्ष 17 अक्टूबर 2021 को नया नकल अध्यादेश लाने घोषणा को अमलीजामा पहनाया होता तो आज पेपर माफियाओं में भी खौफ रहता और भर्ती प्रक्रियाओं में प्रश्नचिन्ह नहीं लगता।
मुख्यमंत्री युवाओं के प्रति नहीं गंभीर

राठौड़ ने कहा कि मुख्यमंत्री रीट पेपर लीक प्रकरण में विपक्ष पर राजनीतिक रोटियां सेंकने का आरोप लगा रहे हैं, लेकिन आप स्वयं युवाओं के भविष्य के प्रति जरा भी सजग व गंभीर होते तो आपके शासन में रीट के अलावा लाइब्रेरियन, एसआई व जेईएन भर्ती परीक्षाओं के पेपर लीक नहीं हुए होते। 3 वर्ष में कई भर्ती परीक्षाओं का पेपर लीक होना मुख्यमंत्री के नेतृत्व वाली सरकार की उपलब्धि है। रीट पेपर को सुनियोजित साजिश के तहत डीपी जारोली व उनके साथी प्रदीप पाराशर सहित राजनीतिक आकाओं की सरपरस्ती में लीक करवाया गया जिसके तार मंत्रिमंडल तक जा रहे हैं। सरकार को दोषियों को बर्खास्त करने के साथ ही उन्हें तुरंत गिरफ्तार करना चाहिए।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

Drone Festival: दिल्ली के प्रगति मैदान में भारत के सबसे बड़े ड्रोन फेस्टीवल का उद्घाटन करेंगे पीएम मोदीअजमेर शरीफ दरगाह में मंदिर होने के दावे के बाद बढ़ाई गई सुरक्षा, पुलिस बल तैनातपहली बार हिंदी लेखिका को मिला अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार, एक मॉं की पाकिस्तान यात्रा पर आधारित है उपन्यासपहली बार हिंदी लेखिका को मिला अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार, एक मॉं की पाकिस्तान यात्रा पर आधारित है उपन्यासपहली बार हिंदी लेखिका को मिला अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार, एक मॉं की पाकिस्तान यात्रा पर आधारित है उपन्यासमानसून ने अब तक नहीं दी दस्तक, हो सकती है देरखिलाड़ियों को भगाकर स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी का ट्रांसफर, पति लद्दाख तो पत्नी को भेजा अरुणाचलमहंगाई का असर! परिवहन मंत्रालय ने की थर्ड पार्टी बीमा दरों में बढ़ोतरी, नई दरें जारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.