scriptremoval of transfer ban, govt to satisfied its mla in rajasthan | बिना नीति तबादले... हर विधायक को 400 डिजायर का 'प्री इलेक्शन ऑफर'! | Patrika News

बिना नीति तबादले... हर विधायक को 400 डिजायर का 'प्री इलेक्शन ऑफर'!

सरकार ने 'अपने' 126 विधायकों के लिए खोला 'डिजायर मेले' का रास्ता

 

जयपुर

Published: June 16, 2022 07:54:28 pm

जयपुर. राज्य के मौजूदा राजनीतिक माहौल और अगले साल प्रस्तावित चुनाव से पहले बिना नीति तबादले खोल कर सरकार ने एक तरीके से अपने हर समर्थक विधायकों को औसतन 400 'डिजायर' का परोक्ष 'प्री इलेक्शन आॅफर' दे दिया है। शिक्षा मंत्री बी.डी.कल्ला के तबादला प्रक्रिया को लेकर आए हालिया बयान को देखें तो स्थानांतरण प्रक्रिया में सरकार समर्थित हर विधायक को जम कर डिजायर करने का मौका मिलेगा। एक अनुमान के अनुसार तबादलों में सिर्फ शिक्षा और चिकित्सा महकमों में 60 से 65 हजार आवेदनों पर निर्णय हो सकता है। शेष सभी विभागों को मिला कर तबादलार्थियों की यह संख्या करीब एक लाख होगी। गौर करने वाली बात यह भी है कि हर बार की तरह इस बार सरकार ने तबादलों पर फिर से प्रतिबंध लगाने की भी कोई समयसीमा निर्धारित नहीं की है।
बिना नीति तबादले... हर विधायक को 400 डिजायर का 'प्री इलेक्शन ऑफर'!
यों समझें 'ऑफर' का गणित

राज्य सभा चुनाव से साफ हो गया कि सरकार के साथ कांग्रेस और अन्य को मिला कर 126 विधायक हैं। यह मान लें कि कुल तबादला आवेदनों में से आधे यानि 50 हजार का निर्णय सामान्य प्रक्रिया से हो, तो भी समर्थक विधायकों में से हर एक के पास औसतन करीब 400 डिजायर लिखने का मौका होगा।
पूरे चुनावी साल चली थी 'छूट'

कांग्रेस ही नहीं, भाजपा ने भी पहले यही 'छूट' पूरे चुनावी साल में जारी रखी। पूर्ववर्ती भाजपा सरकार ने भी 2018 के चुनावी साल में मार्च में तबादलों से प्रतिबंध हटाया था, जो दिसंबर में चुनाव होने तक जारी रहा। कांग्रेस सरकार आने के बाद 10 सितंबर 2019 को फिर से प्रतिबंध लगाया गया।
संगठन से भी दबाव

बिना किसी निर्धारित समय सीमा के तबादले खोलना अब लगातार इस प्रक्रिया में राजनीतिक दखलंदाजी का जरिया बना रहेगा। सूत्रों के अनुसार कांग्रेस में मचे सियासी संग्राम के बाद से ही लगातार विधायकों, समर्थकों के अलावा संगठन प्रतिनिधियों की ओर से भी तबादला प्रक्रिया खोलने का दबाव सरकार पर था।
जानिए क्या कहता है नीति का मसौदा

- मार्च, 2021 में जारी नई तबादला नीति के मसौदे के अनुसार तबादले हर साल सिर्फ 1 अप्रेल से 30 जून के बीच हीे होंगे।
- हर साल विभाग 15 मार्च तक स्थानांतरण योग्य पद सार्वजनिक करेंगे। कर्मचारी 31 मार्च तक आवेदन करेंगे।
- किसी भी साल में 30 जून को मौजूदा पोस्टिंग के दो साल पूरे होने पर ही स्वयं के आवेदन पर तबादला होगा।
- तबादला होने पर पहले कार्मिक को नई पोस्टिंग पर ज्वॉइन करना होगा, इसके बाद तीस दिन में परिवेदन दे सकेगा।
- सेवा में एक वर्ष से कम अवधि रहने पर भी कार्मिक का तबादला किसी भी परिस्थिति में नहीं किया जा सकेगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: अयोग्यता नोटिस के खिलाफ शिंदे गुट पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, सोमवार को होगी सुनवाईMaharashtra Political Crisis: एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने पर दिया बड़ा बयान, कहीं यह बातBypoll Result 2022: उपचुनाव में मिली जीत पर सामने आई PM मोदी की प्रतिक्रिया, आजमगढ़ व रामपुर की जीत को बताया ऐतिहासिकRanji Trophy Final: मध्य प्रदेश ने रचा इतिहास, 41 बार की चैम्पियन मुंबई को 6 विकेट से हरा जीता पहला खिताबKarnataka: नाले में वाहन गिरने से 9 मजदूरों की दर्दनाक मौत, सीएम ने की 5 लाख मुआवजे की घोषणाअगरतला उपचुनाव में जीत के बाद कांग्रेस नेताओं पर हमला, राहुल गांधी बोले- BJP के गुड़ों को न्याय के कठघरे में खड़ा करना चाहिए'होता है, चलता है, ऐसे ही चलेगा' की मानसिकता से निकलकर 'करना है, करना ही है और समय पर करना है' का संकल्प रखता है भारतः PM मोदीSangrur By Election Result 2022: मजह 3 महीने में ही ढह गया भगवंत मान का किला, किन वजहों से मिली हार?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.