पंचायत चुनाव में तेज हु्आ प्रचार, विधायकों के हाथों में चुनाव प्रबंधन की जिम्मेदारी

चुनाव प्रबंधन के साथ ही डोर टू डोर कैंपेन का जिम्मा भी विधायकों के हाथों में, 26 अगस्त को होगा पंचायत चुनाव में पहले चरण का मतदान

By: firoz shaifi

Published: 21 Aug 2021, 08:51 PM IST

जयपुर। प्रदेश के 6 जिलों में हो रहे पंचायत और जिला परिषद चुनाव में चुनाव चिन्हों का आवंटन होने के बाद अब चुनाव प्रचार परवान चढ़ने लगा है। डोर टू डोर कैंपेन के जरिए प्रत्याशियों ने अपना प्रचार तेज कर दिया है। कांग्रेस-भाजपा और क्षेत्रीय दलों के प्रत्याशियों ने प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी है। पहले चरण के चुनाव में महज अब 5 दिन का समय शेष बचा है। ऐसे में पहले चरण के मतदान की तारीख नजदीक आने के साथ ही प्रत्याशियों की भाग दौड़ भी भी तेज हो गई है।

विधायकों ने संभाला मोर्चा
इधर 6 जिलों में प्रचार का जिम्मा पूरी तरीके से विधायकों के हाथों में है। चुनाव प्रबंधन से लेकर प्रचार तक की रणनीति विधायकों के ओर से से ही तय की जा रही है। कांग्रेस विधायक भी अपने-अपने प्रत्याशियों के समर्थन में डोर टू डोर कैंपेन करके मतदाताओं से वोट मांग रहे हैं।

सोशल मीडिया पर भी चुनावी कैंपेन
वहीं दूसरी ओर प्रत्याशियों के समर्थन में सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म पर भी प्रचार किया जा रहा है। संबंधित पंचायतों के मतदाताओं को व्हाट्सएप, फेसबुक और सोशल मीडिया के अन्य प्लेटफार्म के जरिए संपर्क कर उनसे मत और समर्थन की अपील की जा रही है।

विधायकों की साख दांव पर
पंचायत जिला परिषद चुनाव में कांग्रेस के तकरीबन 20 से ज्यादा विधायकों की साख दांव पर लगी हुई है। दरअसल टिकट वितरण में इस बार विधायकों की चली है। विधायकों के कहने पर ही प्रत्याशी तय किए गए हैं। इसलिए प्रत्याशियों को जीत दिलाने का जिम्मा विधायकों के कंधों पर है।

ऐसे में प्रत्याशियों के प्रचार से लेकर चुनावी रणनीति का प्रबंधन भी विधायक ही कर रहे हैं। गौरतलब है कि 6 जिलों में पहले चरण के लिए 26 अगस्त को मतदान होगा जबकि दूसरे चरण के लिए 29 अगस्त और तीसरे चरण के लिए 1 सितंबर को सुबह 7:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक मतदान कराया जाएगा।

चुनाव रैली और सभाओं पर रोक
दरअसल इस बार पंचायत-जिला परिषद चुनाव में राज्य निर्वाचन आयोग ने कोविड संक्रमण को देखते हुए चुनावी रैलियों और सभाओं पर प्रतिबंध लगा दिया दिया है और प्रत्याशियों को केवल घर-घर जाकर संपर्क करके ही प्रचार करने की अनुमति दी गई है।

पंचायत समिति सदस्य के लिए 26 उम्मीदवार निर्विरोध
प्रदेश के जयपुर जोधपुर, दौसा, भरतपुर, सिरोही और सवाईमाधोपुर के 200 जिला परिषद और 1564 पंचायत समिति सदस्यों के लिए होने वाले चुनाव में जिला परिषद सदस्यों के लिए 1093 उम्मीदवारों ने 1301 और पंचायत समिति सदस्यों के लिए 7887 उम्मीदवारों ने 8940 उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र दाखिल किए थे । नामांकन पत्रों की जांच और नाम वापसी के बाद 5826 उम्मीदवार चुनाव मैदान में रह गए हैं। जिला परिषद सदस्य के लिए 1 और पंचायत समिति सदस्य के लिए 26 उम्मीदवार निर्विरोध चुन लिए गए हैं।

firoz shaifi Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned