रिटेलर्स कर रहे ज्यादा सप्लाई बढ़ाने पर फोकस

मॉल मालिकों के बाद अब रियल एस्टेट कंपनियों पर कार्टेलाइजेशन का आरोप

By: Jagmohan Sharma

Updated: 30 May 2020, 12:03 AM IST

नई दिल्ली. लॉकडाउन में बंद बड़ी रिटेल दुकानों से रिटेलर्स पहले ही परेशान है, ऐसे में मॉल मालिकों को बंद दुकानों का किराया और मेनटेंनेस चार्ज देना भाड़ी पड़ रहा है। रिटेलर्स ने रेंट ऐग्रीमेंट में बदलाव करने की मांग की। मॉल मालिकों के बाद अब रिटेलर्स रियल एस्टेट कंपनियों पर कार्टेलाइजेशन का आरोप लगाया है। दरअसल स्टील और सीमेंट कंपनियों ने रियल एस्टेट कंपनियों पर आरोप लगाया था कि वो ज्यादा मुनाफे के लिए सप्लाई में कार्टेलाइजेशन कर रही हैं। इसी को देखते हुए अप रियल एस्टेट कंपनियों ने बल्क ऑर्डर के लिए रणनीति में बदलाव किया है। उमीद है कि इस कदम से 5 से 7 फीसदी तक लागत में बचत होगी। बड़े डेवलपर्स के अलावा अब छोटी कंपनियों के भी ऐसा करने से लागत पर असर दिख सकेगा।

क्रेडाई ने बदली रणनीति
रॉ मैटेरियल की सप्लाई पर कार्टेलाइजेश का आरोप झेल रही रियल एस्टेट सेक्टर की कंपनियों ने बल्क ऑर्डर के लिए रिटेलर्स से हाथ मिलाया है। रियल एस्टेट डेवलपर्स की बॉडी क्रेडाई का कहना है कि हम केवल बड़े शहरों में नहीं बल्कि छोटे शहरों में भी इस नई रणनीति का प्रयोग कर रहे हैं। ताकि लागत कम हो सके और इसका मुनाफा रॉ मैटेरियल से जुड़ी कंपनियों को भी मिल सके।

Jagmohan Sharma Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned