scriptretire Brig. beniwal defuse many live bombs during 1971 war | महज 72 घंटे में टैंकों के लिए बना दिया पुल, जिंदा बमों को नाकाम कर बचाई कई जान | Patrika News

महज 72 घंटे में टैंकों के लिए बना दिया पुल, जिंदा बमों को नाकाम कर बचाई कई जान

इंजीनियरिंग कोर के गौरव सेनानी ब्रिगेडियर बेनीवाल ने बताई शौर्य गाथा

 

जयपुर

Updated: January 18, 2022 08:11:46 pm

जयपुर. युद्ध के दौरान इन्फेन्ट्री बटालियंस की आमने-सामने की जंग तो हर कोई जानता है, लेकिन रास्ते की हर बाधा को दूर कर दुश्मन तक पैदल सेना की पहुंच बनाने का महत्वपूर्ण कार्य करती है इंजीनियरिंग कोर की टुकड़ियां। 1971 की लड़ाई में पश्चिमी सीमा पर बंगाल सैपर्स ने भी कठिनाई भरे युद्ध क्षेत्र को अपने कौशल से ऐसे ही हमारे जवानों के लिए सुगम रास्ता बनाया था।
महज 72 घंटे में टैंकों के लिए बना दिया पुल, जिंदा बमों को नाकाम कर बचाई कई जान
इसी बंगाल सैपर्स रेजीमेंट के ब्रिगेडियर (सेनि.) महेन्द्र सिंह बेनीवाल फिलहाल जयपुर में रहते हैं, जिन्होंने युद्ध के दौरान अगस्त से दिसंबर 1971 तक दुश्मन के हर संभावित कदम को रोकने के लिए बारूदी सुरंग बिछाने और अपने जवानों को लगातार आगे बढ़ाने के लिए पुल निर्माण जैसे काम किए। लड़ाई के बाद भी उन्होंने युद्ध क्षेत्र में जिन्दा मिले कई बमों और रॉकेटों को नाकाम कर बड़े हादसों को टाल दिया। बेनीवाल ने बताया कि नवम्बर 1971 में वह प्लाटून कमांडर के तौर पर पश्चिमी सीमा पर तैनात थे। गंगानगर क्षेत्र में दो अन्य पलटनों की मदद से महज 72 घंटे में टैंकों के आवागमन के लिए मजबूत पुल बना दिया, जबकि दो पुलों को बारूद लगाकर इस तरह भी तैयार कर दिया कि यदि दुश्मन इन पुलों तक पहुंचने में सफल हो जाए तो उन्हें पल भर में नष्ट भी किया जा सके।
युद्ध समाप्ति के बाद जनवरी, 1972 में जब वह पंजाब के फाजिल्का में बारूदी सुरंगों को निकाल रहे थे तो उनकी नजर उन गड्ढ़ों पर पड़ी, जहां दुश्मन के गिराए जिंदा बम धंसे हुए थे। फाजिल्का-फिरोजपुर हाइवे पर यह बम 3 दिसंबर 1971 को पाकिस्तान की ओर से भारत पर किए गए हवाई हमलों के दौरान गिराए गए थे, जो बिना फटे ही रह गए। जान की परवाह नहीं करते हुए उन्होंने दोनों बमों को निष्क्रिय किया। जून, 1972 में भी ऐसे ही 500-1000 पाउंड के दो और बम उन्होंने नाकाम किए। ब्रिगेडियर बेनीवाल को अपने अदम्य शौर्य और साहसिक कार्यों के लिए सेना मैडल पुरस्कार से नवाजा गया। नवंबर-दिसंबर 2021 में जयपुर और फाजिल्का में स्वर्णिम विजय वर्ष महोत्सव के दौरान आयोजित कार्यक्रमों में भी ब्रिगेडियर बेनीवाल को सम्मानित किया गया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Thailand Open: PV Sindhu ने वर्ल्ड की नंबर 1 खिलाड़ी Akane Yamaguchi को हराकर सेमीफाइनल में बनाई जगहIPL 2022 RR vs CSK Live Updates: रोमांचक मुकाबले में राजस्थान ने चेन्नई को 5 विकेट से हरायासुप्रीम कोर्ट में अपने लास्ट डे पर बोले जस्टिस एलएन राव- 'जज साधु-संन्यासी नहीं होते, हम पर भी होता है काम का दबाव'ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनCBI रेड के बाद तेजस्वी यादव ने केंद्र सरकार पर कसा तंज, कहा - 'ऐ हवा जाकर कह दो, दिल्ली के दरबारों से, नहीं डरा है, नहीं डरेगा लालू इन सरकारों से'Ola-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार के लिए भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाईHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.