बासमती चावल का उत्पादन बढ़ा, निर्यात घटा

Basmati Rice : बासमती चावल की निर्यात मांग में नरमी के कारण घरेलू बाजार में कीमतों में गिरावट आई है। इससे किसानों के लिए इस साल बासमती की खेती लाभकारी साबित नहीं हो पाई है।


बासमती चावल का उत्पादन बढ़ा, निर्यात घटा

बासमती चावल की निर्यात मांग में नरमी के कारण घरेलू बाजार में कीमतों में गिरावट आई है। इससे किसानों के लिए इस साल बासमती की खेती लाभकारी साबित नहीं हो पाई है।
चालू वित्त वर्ष के शुरुआती सात महीनों में बासमती चावल के निर्यात में 10 फीसदी की गिरावट आई है। इससे घरेलू बाजार में बासमती चावल का भाव पिछले साल से 20 फीसदी टूट चुका है। कारोबारी बताते हैं कि बासमती चावल का उत्पादन ज्यादा होने और निर्यात सुस्त पड़ जाने के कारण कीमतों पर दबाव देखा जा रहा है। इस साल देश में बासमती चावल का उत्पादन पिछले साल से 25 फीसदी ज्यादा है, जबकि निर्यात मांग इस समय कम है, जिसके कारण कीमतों में गिरावट आई है। पिछले साल बासमती चावल 1121 का औसत भाव 6500 रुपये प्रति कुंटल था। वहां इस साल 5300-5400 रुपए कुंटल है। वहीं, 1121 धान का औसत भाव 2800 रुपए प्रति कुंटल है। इस साल बासमती का उत्पादन पिछले साल से करीब 25 फीसदी ज्यादा होने की उम्मीद है और कीमतों पर दबाव के पीछे यह भी एक कारण है।

hanuman galwa
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned