RPS हीरालाल-महिला कांस्टेबल का एक और वीडियो वायरल, जानिए पुलिस के समझौते से लेकर आयोग के संज्ञान तक की पूरी कहानी

आरपीएस हीरालाल सैनी और एक महिला कांस्टेबल के अश्लील वीडियो मामले में स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) ने दोनों के खिलाफ पॉक्सो व आइटी एक्ट में मामला दर्ज कर लिया। निलंबित आरपीएस को एसओजी ने गुरुवार देर रात उदयपुर के रिसोर्ट से गिरफ्तार कर लिया है, जहां महिला भी साथ थी।

By: kamlesh

Published: 10 Sep 2021, 03:58 PM IST

जयपुर/नागौर। आरपीएस हीरालाल सैनी और एक महिला कांस्टेबल के अश्लील वीडियो मामले में स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) ने दोनों के खिलाफ पॉक्सो व आइटी एक्ट में मामला दर्ज कर लिया। निलंबित आरपीएस को एसओजी ने गुरुवार देर रात उदयपुर के रिसोर्ट से गिरफ्तार कर लिया है, जहां महिला भी साथ थी। बच्चा साथ होने के कारण महिला को गिरफ्तार नहीं किया गया। वीडियो वायरल करने वालों की पहचान की जा रही है। बालक के पिता की ओर दी गई रिपोर्ट पर एफआइआर दर्ज नहीं करने वाले नागौर के चितावा थानाधिकारी को एसपी ने लाइन हाजिर किया है।

एटीएस एडीजी अशोक राठौड़ ने बताया कि तफ्तीश एसओजी मुख्यालय में की जार रही है। वीडियो को लेकर पहली रिपोर्ट बालक के पिता की ओर से 2 अगस्त को नागौर जिले के चितावा थानाधिकारी प्रकाश चंद मीणा को दी गई थी। प्रकरण को लेकर एसपी अभिजीत सिंह ने 10 अगस्त को मामला दर्ज करने के निर्देश दिए, लेकिन प्रकाश चंद ने इसकी पालना नहीं की। बुधवार को महिला पुलिसकर्मी व आरपीएस अधिकारी का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद डीजीपी एमएल लाठर ने दोनों को निलम्बित कर दिया था। इसके बाद नागौर एसपी ने गुरुवार को थानाधिकारी मीणा को लाइन हाजिर कर दिया।

एक और वीडियो वायरल
सीओ हीरालाल और महिला कांस्टेबल को बुधवार को अश्लील वीडियो वायरल होने के बाद गुरुवार को एक और वीडियो सामने आया है। इसमें सीओ और महिला कांस्टेबल न केवल पानी में अश्लील हरकतें करते दिख रहे हैं बल्कि छह साल के मासूम बालक को भी इसमें शामिल कर लिया। वीडियो में बच्चे के साथ जो कुछ किया जा रहा है वह 'पोक्सो' अधिनियम के तहत जघन्य अपराध की श्रेणी में आता है। पुलिस को आशंका है कि इस तरह के और वीडियो सामने आ सकते हैं। इसीलिए दर्ज एफआइआर में वीडियो वायरल करने वालों की भी पहचान की जाएगी।

मोटाराम ने कराया समझौता
प्रकरण में शिकायर्ता महिला कांस्टेबल के पति से हुई बातचीत के अनुसार प्रकरण में समझौता हो चुका है। समझौते में कुचामन सिटी वृत्ताधिकारी मोटाराम बेनीवाल की मध्यस्थता रही है। बकौल शिकायतकर्ता 'मामले में समझौता हो गया है। अब कोई मामला नहीं है। बाद में मोटारामजी डिप्टी व अन्य ने समझौता करवा दिया।' उधर मोटाराम का कहना है कि प्रकरण मेरी जानकारी में नहीं था। एसपी साहब के मार्क करने के बाद शिकायत सीधी थाने पर गई थी। न हमारे यहां प्रकरण दर्ज था ना ही मुझे इसकी जानकारी थी। मेरा उससे कोई लेना देना नहीं है।

राज्य बाल आयोग ने की रिपोर्ट तलब
ब्यावर सीओ हीरालाल सैनी और महिला कांस्टेबल के अश्लील वीडियो को लेकर बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने भी संज्ञान लिया है। राज्य बाल संरक्षण आयोग अध्यक्ष संगीता बेनीवाल ने बताया कि मामला गंभीर श्रेणी का है। एक मासूम के सामने जिम्मेदार पुलिस अधिकारी की इस तरह की हरकत चिंतनीय है। इस संबंध में नागौर पुलिस अधीक्षक से तीन दिन में तथ्यात्मक रिपोर्ट तलब की है। अब तक क्या कार्रवाई की गई, इनकी जानकारी देने के निर्देश दिए हैं। सरकार बाल संरक्षण को लेकर सजग है। रिपोर्ट आने के बाद तकनीकी पहलुओं पर चर्चा कर कार्रवाई की जाएगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned