आरएसएलडीसी की अनूठी पहल


पहले मिलेगा रोजगार फिर होगा प्रशिक्षण
एक लाख से अधिक युवाओं के रोजगार से जोडऩे का प्रयास
आरएसएलडीसी ने साइन किए दो एमओयू

By: Rakhi Hajela

Published: 07 Aug 2020, 10:45 AM IST

युवाओं को कौशल प्रदान करवाने वाला आरएसएलडीसी अब युवाओं को रोजगार दिलवाने का काम भी कर रहा है। इस काम को मूर्त रूप देने के लिए राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम ने फैडरेशन ऑफ राजस्थान ट्रेड एंड इंडस्ट्री फोर्टी और सीतापुरा जेम्स एंड ज्वैलरी इंडस्ट्री एसोसिएशन के साथ हाथ मिलाया है। निगम ने इन दोनों के साथ हाल में एमओयू साइन किए हैं।

बनाए जाएंगे कौशल विकास केंद्र
सीतापुरा जेम्स एंड ज्वैलरी इंडस्ट्री एसोसिएशन के साथ हुए एमओयू के जरिए आरएसएलडीसी युवाओं को प्रशिक्षण से पहले रोजगार मुहैया करवाएगा। इसके तहत अलग.अलग सेक्टर में बेरोजगार युवाओं को चिह्नित कर उन्हें काम पर रखा जाएगा। इस दिशा में पहला कदम जेम्स एंड ज्वैलरी इंडस्ट्री में उठाया गया है। इस एमओयू के तहत जेम्स एंड ज्वैलरी सेक्टर में मौजूद अलग.अलग कार्यक्षेत्रों के हिसाब से युवाओं को चिह्नित किया जाएगा। एसोसिएशन की ओर से कौशल विकास केन्द्र बनाए जाएंगे। इन कौशल विकास केन्द्रों पर उन्हे प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। प्रशिक्षण के बाद इन सभी युवाओं को इसी इंडस्ट्री में शत प्रतिशत प्लेसमेंट करवाया जाएगा।
बेरोजगार युवाओं को किया जाएगा चिह्नित
आपको बता दें कि इसके लिए अलग अलग सेक्टर के बेरोजगार युवाओं को चिह्नित किया जाएगा। उसके बाद उन्हें रोजगार के अवसर मुहैया करवाए जाएंगे। फोर्टी के साथ हुए एमओयू के मुताबिक फोर्टी के तहत ज्वैलरी, मोबाइल सर्विसेज, इलेक्ट्रॉनिक, हैंड प्रिटिंग, ब्लॉक प्रिटिंग और हॉस्पिटिलिटी सेक्टर में युवाओं को तैयार किया जाएगा। फोर्टी के अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल का कहना है कि फोर्टी ने व्यापारियों की समस्याओं को दूर करने के लिए हमेशा प्रयास किए हैं। हमेशा उनके साथ कंधे से कंधा मिलकर खड़ी रही है। इसी कड़ी में फोर्टी ने पहल करते हुए देश में फैली बेरोजगारी की समस्या को दूर करने का भी जिम्मा उठाया है और आरएसएलडीसी के साथ एक एमओयू साइन किया है। इस एमओयू के जरिए बेरोजगार युवाओं को रोजगार के साथ प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।

हर जिले में होगा स्किल डवलपमेंट सेंटर
आपको बता दें कि इस योजना की शुरुआत जयपुर से की जाएगी। इसके बाद फोर्टी हर जिले में अपने स्किल डवलपमेंट के सेंटर शुरू करेगी। जहां चिह्नित किए गए युवाओं को प्रशिक्षित किया जाएगा इसके बाद आरएसएलडीसी उन्हें रोजगार का अवसर प्रदान करेगी। जिससे राज्य में कोविड १९ के समय बेरोजगारी से कुछ हद तक राहत मिल सके। इस अवसर पर कौशल एवं उद्यमिता विभाग के शासन सचिव नीरज के पवन ने बताया कि कोरोना की वजह से बहुत से लोगों का रोजगार चला गया है, इस मुश्किल समय में हमारा प्रयास है कि ज्यादा से ज्यादा बेरोजगारों को रोजगार दिलवाया जा सके।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned