मरीजों को अपने गांव में मिलेगी 3 माह की दवा

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि प्रदेश भर के हृदय रोगी, मधुमेह और टीबी जैसी नॉन कम्यूनिकेबल बीमारियों से पीडि़त मरीजों को तीन माह की दवाएं मोबाइल वैन के जरिए उनके राजस्व गांवों तक निशुल्क उपलब्ध कराई जाएगी।

By: chandra shekar pareek

Published: 20 Aug 2020, 01:20 AM IST

चिकित्सा विभाग के प्रमुख शासन सचिव अखिल अरोड़ा ने इस संबंध में निर्देश जारी कर दिए हैं। निर्देशों के अनुसार दो महीने में एक बार नॉन कम्यूनिकेबल बीमारियों से ग्रसित मरीजों के राजस्व गांव तक चिकित्सकीय परामर्श के लिए चिकित्सक, औषधि वितरण के लिए फार्मासिस्ट, जांच करने के लिए लैब टैक्निशियन और गंभीर मरीज पाए जाने पर नर्सिंग केयर की सुविधा के लिए नर्सिंगकर्मियों की सेवाएं भी प्रत्येक राजस्व गांव तक मोबाइल मेडिकल वैन के जरिए उपलब्ध करवाई जाएगी। साथ ही, क्षेत्रवार रूट चार्ट बनाकर, स्थानीय स्तर पर इसका समुचित प्रचार किया जाएगा। रूट चार्ट बनाते समय इस बात का ध्यान रखा जाएगा कि यथासंभव एक ब्लॉक (अथवा शहरी क्षेत्र के जोन) का सम्पूर्ण कवरेज दो माह में एक बार कर लिया जाए।
अरोड़ा ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा हृदय रोग, मधुमेह एवं टी.बी. जैसी नॉन कम्यूनिकेबल बीमारियों के लिए निशुल्क दवा वितरण की व्यवस्था दवा वितरण केंद्र पर की हुई है। वर्तमान में कोविड से उत्पन्न परिस्थितियों के कारण कुछ स्थानों पर बीमार व्यक्ति चिकित्सा संस्थानों में स्थित दवा वितरण केंद्रों पर आने में संकोच कर रहे हैं, जिससे उनकी चिकित्सा में व्यवधान होने की आशंका है।
उन्होंने बताया कि नॉन कम्यूनिकेबल बीमारियों से पीडि़त व्यक्तियों की निर्बाध चिकित्सा सुनिश्चित करने के लिए निशुल्क दवा वितरण घरों तक मोबाइल वैन के जरिए किया जाना सुनिश्चित किया जाएगा।

chandra shekar pareek Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned