हजारों वर्षों से एक इंच भी नहीं हिली है रूस की 'पत्थर नदी'

वह खासियत जो रूस की बिग स्टोन रीवर को अन्य स्टोन रीवर से अलग करती है और अपने नाम के अनुरूप बनाती है, वह यह है कि यह एक असली नदी की तरह घने देवदार के जंगल से कटती है। पत्थर, जो हजारों वर्षों से एक इंच नहीं हिले हैं।

पत्थर की नदियां, जिन्हें स्टॉन रन्स के नाम से भी जाना जाता है, दुनिया भर में बुल्गारिया के विटोशा पर्वत से लेकर फॉकलैंड द्वीप समूह तक पाई जा सकती हैं, लेकिन रूस के चेल्याबिंस्क ओब्लास्ट क्षेत्र में बिग स्टोन नदी जितनी प्रभावशाली कोई नहीं है। 6 किमी लंबी दूरी में शिलाखंडों का यह विशाल समूह 20 मीटर की औसतन कई छोटी 'धाराओं' से शुरू होता है, जो बाद में 200 मीटर (कुछ जगहों पर 700 मीटर तक) की औसत चौड़ाई के साथ एक बड़ी स्टॉन रीवर बनाता है। बिग स्टोन रीवर को तगानई पार्क का सबसे दिलचस्प दृश्य माना जाता है और रूस में सबसे प्रभावशाली पर्यटकीय नजारा है।

नदी और इसके पत्थरों को लेकर कई दंतकथाएं प्रचलित हैं लेकिन वैज्ञानिकों का मानना है कि यह 10,000 साल पहले तगानई की ऊंची चोटियों से एक ग्लेशियर के टूटने और घाटियों में बहने का नतीजा है।

वह चीज़ जो बिग स्टोन नदी को अन्य स्टोन रीवर से अलग करती है, यह कि यह अपने नाम के अनुरूप बनाती है, यह एक असली नदी की तरह घने देवदार के जंगल से कटती है, जो हजारों वर्षों से एक इंच नहीं हिले हैं। बोल्डर की परत, जिनमें से कुछ का वजन 10 टन तक होता है, 4 से 6 मीटर के बीच है जो कि 'नदी' में लाइकेन के अलावा अन्य वनस्पतियों के लिए उगना लगभग असंभव बना देता है। ओटकलिक्नोय क्रेस्ट के पास एकमात्र उल्लेखनीय अपवाद दो पुराने देवदार के पेड़ हैं।

बिग स्टोन नदी को बनाने वाले एवंटूराइन बोल्डर को देखना एक यादगार अनुभव है, इस प्राकृतिक आश्चर्य का अनुभव करने का सबसे अच्छा तरीका ऊपर से है। तगानई पार्क का सबसे दिलचस्प नजारा साउथ यूराल माउंटेन से दिखता है, जहां बिग स्टोन रीवर में हजारों बड़े पत्थर दिखाई देते हैं जो चीड़ के पेड़ों के घने जंगल से होकर रास्ता बनाती है।

Amit Purohit Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned