विधानसभा सचिव के कक्ष में धरने पर बैठे दिलावर, मामला बढ़ा तो सौंपी आदेश की कॉपी

बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय का मामला उलझता जा रहा है। हाईकोर्ट ने भाजपा विधायक मदन दिलावर की याचिका को सारहीन बताकर खारिज कर दिया है। हालांकि कोर्ट ने अलग से याचिका दायर करने की छूट दी है। ऐसे में दिलावर नए सिरे से याचिका दायर करेंगे। इससे पहले दिलावर ने सोमवार को विधानसभा में विधानसभा सचिव के कक्ष में धरना दिया।

By: Umesh Sharma

Published: 27 Jul 2020, 03:25 PM IST

जयपुर।

बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय का मामला उलझता जा रहा है। हाईकोर्ट ने भाजपा विधायक मदन दिलावर की याचिका को सारहीन बताकर खारिज कर दिया है। हालांकि कोर्ट ने अलग से याचिका दायर करने की छूट दी है। ऐसे में दिलावर नए सिरे से याचिका दायर करेंगे। इससे पहले दिलावर ने सोमवार को विधानसभा में विधानसभा सचिव के कक्ष में धरना दिया।

बताया जा रहा है कि दिलावर ने बसपा विधायकों की याचिका पर दिए गए आदेश की कॉपी मांगी थी, जिसे देने में आनाकानी की जा रही थी। हालांकि मामला बढ़ता देख विधानसभा की ओर से दिलावर को शॉर्ट कॉपी दी गई है। साथ ही विस्तृत कॉपी शाम तक देने का आश्वासन दिया गया है।

इकतरफा कार्रवाई की गई है

दिलावर ने विधानसभा के बाहर पत्रकारों से बातचीत में आरोप लगाया कि विधानसभाध्यक्ष ने इकतरफा कार्रवाई की है। मुझे ना तो सुना गया और ना ही उपस्थित होने के लिए नोटिस दिया गया। इसके बावजूद याचिका को निरस्त कर दिया गया। दिलावर ने कहा कि मुझे आदेश की कॉपी चाहिए थी। लेकिन एक पेज दिया गया है। यही समझ नहीं आ रहा है कि विस्तृत आदेश की कॉपी क्यों नहीं दी जा रही है।

फिर कोर्ट की शरण में जाएंगे

उधर हाईकोर्ट की ओर से बसपा विधायकों की याचिका को खारिज करने के सवाल पर दिलावर ने बताया कि याचिका को इसलिए खारिज किया गया है कि विधानसभाध्यक्ष ने इस पर सुनवाई कर ली है। हम विधिक राय लेकर दोबारा कोर्ट की शरण में जाएंगे।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned