Sambhar Lake में हज़ारों पक्षियों की मौत पर सस्पेंस बरकरार, इस बीच आई ये Latest Update

राजस्थान के सांभर झील और उसके भराव क्षेत्र में पक्षियों की रहस्यमयी मौत प्रकरण पर अब तक पूरी तरह से पर्दा नहीं उठ पाया है। हालांकि वेटनरी डॉक्टर्स और अन्य एक्सपर्ट्स की अब तक प्रारम्भिक जांच में कई बातें साफ़ होती जा रही हैं।

जयपुर।

राजस्थान के सांभर झील और उसके भराव क्षेत्र में पक्षियों की रहस्यमयी मौत प्रकरण पर अब तक पूरी तरह से पर्दा नहीं उठ पाया है। हालांकि वेटनरी डॉक्टर्स और अन्य एक्सपर्ट्स की अब तक प्रारम्भिक जांच में कई बातें साफ़ होती जा रही हैं। इधर, सीएम अशोक गहलोत ने मामले को गंभीरता से लेते हुए उच्च स्तरीय समीक्षा के निर्देश दिए हैं।


मौतों के वास्तविक कारणों पर अब भी सस्पेंस
साम्भर झील और उसके इर्द-गिर्द हो रही पक्षियों की मौत मामले में देश के प्रतिष्ठित संस्थान सालीम अली सेन्टर फॉर आर्निथोलोजी एण्ड नेचुरल हिस्ट्री, भारतीय वन्यजीव संस्थान और बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसायटी के विशेषज्ञों ने साइट पर पहुंचकर काम शुरू कर दिया है।


इधर, राज्य पशुपालन विभाग की टीम ने वहां से सैम्पल लेकर भोपाल स्थित राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशु रोग केन्द्र में भेजे दिये थे। वहां की रिपोर्ट के अनुसार एवियन फ्लू से संबंधित रिपोर्ट नेगेटिव है। इसलिए फ्लू के संक्रमण का खतरा नहीं है। राजस्थान पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान विश्वविद्यालय बीकानेर के विशेषज्ञों ने एवियन बोट्यूलिज्म की सम्भावना जताई है। भोपाल से विस्तृत रिपोर्ट प्राप्त होने पर इसके वास्तविक कारणों का पता चल सकेगा।


डॉक्टर्स-एक्सपर्ट्स ने डाला 'झील पर डेरा'
पशुपालन विभाग की ओर सांभर झील पर चिकित्सकों एवं नर्सिंगकर्मियों की 50 सदस्यीय टीम लगातार कार्य कर रही है। बताया जा रहा है कि वहां पर एक रेस्क्यू सेंटर पहले ही स्थापित किया जा चुका है, जिसने अब तक 63 पक्षियों को बचाया है, जिनमें से 46 पक्षियों में उपचार के बाद सुधार के लक्षण पाए गए हैं।


मौके पर पहुंची टीमें मृत पक्षियों का वैज्ञानिक तरीके से निस्तारण भी कर रहीं हैं। इस बीच जयपुर, अजमेर और नागौर के जिला कलक्टरों को भी निर्देश दिए गए हैं कि अभियान चलाकर मृत पक्षियों का उचित निस्तारण सुनिश्चित किया जाए।


परवान पर राहत कार्य
राहत कार्योंं में एसडीआरएफ की टीम से भी सहयोग लिया जा रहा है ताकि पानी में कोई मृत पक्षी नहीं रहे। सांभर झील के विस्तृत क्षेत्र को देखते हुए सांभर साल्ट लिमिटेड से भी राहत कार्यों में सहयोग लिया जा रहा है। वहां दो इमरजेंसी मोबाइल यूनिट भी कार्य कर रही है और औषधियों का पर्याप्त इंतजाम किया गया है। पशुपालन विभाग की टीम स्थिति पर लगातार नजर बनाए हुए है और स्थिति अब नियंत्रण में है।


उच्च स्तरीय समीक्षा के निर्देश जारी
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सांभर झील और उसके भराव क्षेत्र में पक्षियों की मौतों के मामले की समीक्षा की। इस संबंध में गुरूवार रात को मुख्यमंत्री निवास पर हुई बैठक में मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से अब तक की वस्तुस्थिति के बारे में जानकारी ली और निर्देश दिए कि पक्षियों की मौत के कारणों की जांच कर प्रभावी कदम उठाए जाएं। साथ ही मृत पक्षियों का वैज्ञानिक तरीके से निस्तारण किया जाए ताकि किसी प्रकार का संक्रमण फैलने की आशंका नहीं रहे।


सीएम गहलोत ने कहा कि वन्यजीव एवं पक्षी पर्यावरण एवं जैव विविधता का अभिन्न अंग है। सांभर झील पर प्रवासी पक्षियों के साथ-साथ स्थानीय पक्षियों का बसेरा यहां के नैसर्गिंक सौन्दर्य को बढ़ाता है, साथ ही इनका पारिस्थिति की संतुलन में महत्वपूर्ण योगदान है। अचानक पक्षियों की मौत होना चिंता का विषय है। राज्य सरकार इसको लेकर गंभीर है। मुख्यमंत्री ने पक्षियों को बचाने के लिए एक और रेस्क्यू सेंटर खोलने के निर्देश दिए हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned