जेल में सुराख , चल रहा भागमभाग का ओपन खेल

जेल में सुराख से चलता भागमभाग का ओपन खेल

By: RAJESH MEENA

Published: 03 Dec 2019, 11:20 AM IST


sanganer open jail jaipur : जयपुर। जेल प्रशासन को सांगानेर खुला बंदी ( sanganer open jail )शिविर में रह रहे कैदियों की सुरक्षा की चिंता नहीं है। ओपन जेल की सुरक्षा ( jail security )दीवार में लम्बे समय से सुराख ही सुराख बने हुए है। इसका लाभ उठाकर कैदी जेल नियमों का जमकर मखौल उड़ा रहे है।

मुख्य गेट के बंद होने के बाद कैदी यहां से बाहर चला जाता और जब मन करता है वापस लौट आता है। रात को रोल कॉल के बाद कैदी ( prisoner )यहां से निकल कर खुले आम विचरण करता है। इस साल की बात करें तो अब तक आधा दर्जन कैदी यहां से भाग चुके है। पिछले साल भी तीन कैदी यहां से भाग चुके है। खुला बंदी शिविर से हर साल कैदी भागते है, लेकिन जेल ( Jaipur jail )प्रशासन ने कभी इन चोर दरवाजों को बंद करने की जहमत नहीं उठाई। ओपन जेल से निकल कर बंदी अपराध तक को अंजाम दे रहे है।
खुला बंदी शिविर में आधा दर्जन चोर रास्ते-
सांगानेर खुली जेल में सुरक्षा ( Security )को लेकर कुछ इंतजामात किए लेकिन वे नाकाफी साबित हो रहे है। इसी का फायदा उठाकर बंदी यहां के नियमों की जमकर धज्जियां उडा रहे है। खुला बंदी शिविर में कई चोर दरवाजे बने है। इन चोर रास्तों के माध्यम से बंदी रात को बाहर चले जाते है और अपनी मर्जी से ही वापस लौटते है। चोर रास्तों से कैदियों के बाहर जाने के लिए छूट देने के लिए जेल प्रशासन द्वारा नजराना लेने की बात कहीं जा रही है। जेल में प्रवेश के कई रास्ते होने के कारण बाहरी लोग भी यहां पर घुस आते है।

ऐसे में जेल में ( jail )कभी कोई बड़ी वारदात भी हो सकती है। सांगानेर खुली जेल करीब १८ बीघा जमीन पर बनी है। जेल परिसर में करीब चार सौ आवास बने हुए है। इन आवासों में करीब 350 कैदी अपने परिवार के साथ रह रहे है। रोल-कॉल के तहत कैदी सुबह सात बजे बाद हाजिर देकर परिवार के पालन-पोषण के लिए अपने काम पर जा सकते है और शाम को सात बजे फिर से उन्हे हाजिरी देनी होती है। इन कैदियों में 20 महिला कैदी भी शामिल है। वर्तमान में खुली जेल में कैदियों और उनके परिवार के सदस्यों सहित कुल १२०० से अधिक लोग रहे है।


- जेल की दीवारे छोटी है। कुछ जगह पर खुला रास्ता भी पडा है। यहां पर रहने वाले बंदियों पर ज्यादा निगरानी नहीं रखी जा सकती है। स्टाफ की भारी कमी है। मैन गेट तक के लिए सुरक्षा गार्ड नहीं है।
विनोद, सीआई, खुला बंदी शिविर , सांगानेर

Show More
RAJESH MEENA Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned