मंदिरों और घरों में हुई घट स्थापना, शीाला माता ने पहली बार मुंह मोड़ लिया

chatra nav ratri 2020


जयपुर
चैत्र नवरात्र और नवसंवत्सर का शुभागमन बुधवार यानि आज से हो गया। मां दुर्गा नौ दिन के लिए घर-घर में विराजमान होंगी, लेकिन इस बार पूरे नौ दिन मां का आंगन सूना ही रहेगा। इतिहास में यह पहला मौका है जब शहर के सारे मंदिर बंद रहेंगे। कोरोना वायरस के कारण आमेर स्थित शिला माता मंदिर में भी पहली बार नवरात्र के दाैरान देवी के दर्शन आम लाेगाें काे नहीं हाे पाएंगे। हमेशा साल में दाे बार जयपुर की आस्था का यह प्रमुख द्वार जयमाता की जयघाेष से गूंजता रहता था।

काेराेना संकट की वजह से दर्शन काे छाेड़कर पूरे नाै दिन सभी तरह की पूजा अर्चना हाेगी। इसमें राेजाना हवन, दुर्गासप्तशती के पाठ किए जाएंगे। दूध-दही अकार राजभोग भी लगेगा लेकिन मंदिर आम लोगों के लिए बंद रहेगा। शहर के मंदिरों में भी सभी जगहों पर यही हालात रहेंगे। पूजा अर्चना होगी लेकिन मंदिर भक्तों के लिए बंद ही रहेंगे। कई मंदिरों में आन लाइन पूजा आरती का बंदोबस्त किया गया है। गलता गेट पर स्थित गीता गायत्री दुर्मा माता मंदिर में भी भक्तों के लिए पट बंद रहे।

लेकिन इस बीच मंदिर में घट स्थापना हमेशा की तरह रही। पचास वर्षीय सुशीला देवी ने बताया कि यह जन्म के बाद यह पहली बार है कि जब माता के मंदिर को बंद देखा है। हर साल दो बार शीाला माता मंदिर में नवरात्रि के समय माता के दर्शन हो जाते थे लेकिन इस बार दुनिया भर में फैले वायरस ने सब कुछ बंद करके रख दिया। मेरे जैसे लाखों भक्त माता की एक झलक पाना चाहते हैं लेकिन इस बार यह मुराद पूरी होती नहीं दिख रही है।

JAYANT SHARMA Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned