तीन माह से नहीं मिल रहे रोडवेज स्मार्ट कार्ड

अब दो दिन रजिस्ट्रेशन भी बंद, बैरंग लौट रहे लोग...

By: Priyanka Yadav

Published: 13 Mar 2018, 11:39 AM IST

जयपुर . राजस्थान रोडवेज की ओर से प्रदेश में नि:शुल्क व रियायती यात्रा के लिए स्मार्ट कार्ड (आरएफआईडी) जारी किए जाते हैं। मगर ये रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेन्टीफिकेशन डिवाइस कार्ड तीन माह से लोगों को मिल ही नहीं रहे। लोग पहले ही दफ्तरों में चक्कर काट रहे है, लेकिन अब रोडवेज ने दो दिन सोमवार-मंगलवार के लिए स्मार्ट कार्ड के लिए रजिस्ट्रेशन ही बंद कर दिए है। इससे सोमवार को बड़ी संख्या में रजिस्ट्रेशन कराने आए लोगों को बैरंग लौटना पड़ा।

रोडवेज सूत्रों के मुताबिक स्मार्ट कार्ड व्यवस्था करीब सात-आठ माह से बिगड़ी हुई है। पहले कई बार चक्कर लगाने के बाद मिल रहे थे, लेकिन अब तीन माह से वितरण पूरी तरह ही बंद है। स्मार्ट कार्ड के जरिए वरिष्ठ नागरिक, विशेष योग्यजन, अस्थी विकलांग, मूक-बधिर, नेत्रहीन, गैलेन्ट्री अवॉर्ड विजेता, पदम पुरस्कार, पदक विजेता खिलाड़ी, मासिक पास होल्डर, पत्रकार, पुरस्कृत शिक्षकों सहित अन्य कई श्रेणियों में नि:शुल्क व रियायती सेवा के लिए पास जारी किए जाते हैं।

 

इस कारण अटके कार्ड

जानकारों के मुताबिक घाटे में चला रहा रोडवेज प्रबंधन कार्ड बनाने वाली फर्म को समय पर भुगतान नहीं कर पा रहा। इससे प्रशासनिक पेचीदगी भी बढ़ गई हैं। ऐसे में रोडवेज व फर्म के बीच विवाद चल रहा है। यहीं कारण है कि कार्ड लोगों को समय पर नहीं मिल रहे।

 

अधिनियम में भी शामिल

रोडवेज की ओर से स्मार्ट कार्ड जारी करने की व्यवस्था काम की गारंटी अधिनियम में शामिल है। ऐसे में तीन से सात दिन के अंदर स्मार्ट कार्ड रजिस्ट्रेशन के बाद मिलना चाहिए। इसके बावजूद रोडवेज प्रशासन कार्ड समय पर नहीं दिला पा रहा। ऐसे में रोजाना बड़ी संख्या में लोग रोडवेज कार्यालयों में धक्के खा रहे हैं। प्रदेश में कार्ड वितरण रूकने से करीब 25 हजार कार्डों का वितरण नहीं हो सका।

- 25,000 कार्डों को प्रदेश में अब तक नहीं हो सकता वितरण।

- अक्टूबर-नवंबर में रजिस्ट्रेशन कराने वाले भी कार्ड के लिए परेशान हो रहे हैं।

Priyanka Yadav
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned