स्मार्ट मीटर लगाकर लूटने का षड्यंत्र रच रही है सरकार-चतुर्वेदी

राज्य की कांग्रेस सरकार जयपुर के विद्युत उपभोक्ताओं को पिछले दरवाजे से स्मार्ट मीटर लगाकर लूटने का षड्यंत्र रच रही है। भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व मंत्री अरुण चतुर्वेदी ने आरोप लगाया कि शहर में पुराने इलेक्ट्रॉनिक मीटरों को हटाकर स्मार्ट मीटर लगाने का षड्यंत्र कर रही है, जिसकी शुरुआत प्रताप नगर क्षेत्र से की जा रही है।

By: Umesh Sharma

Published: 01 Dec 2020, 05:10 PM IST

जयपुर।

राज्य की कांग्रेस सरकार जयपुर के विद्युत उपभोक्ताओं को पिछले दरवाजे से स्मार्ट मीटर लगाकर लूटने का षड्यंत्र रच रही है। भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व मंत्री अरुण चतुर्वेदी ने आरोप लगाया कि एक तरफ राज्य की कांग्रेस सरकार ने कोरोना काल में राज्य को किसी भी प्रकार की राहत देने के स्थान पर शुल्क में बढ़ोतरी करने का कुकृत्य किया, वहीं अब जयपुर शहर में पुराने इलेक्ट्रॉनिक मीटरों को हटाकर स्मार्ट मीटर लगाने का षड्यंत्र कर रही है, जिसकी शुरुआत प्रताप नगर क्षेत्र से की जा रही है।

चतुर्वेदी ने आरोप लगाया कि पूर्व में भी कोटा, भरतपुर व बीकानेर में स्मार्ट मीटर लगाने का निर्णय लिया गया था और जनता के विरोध के कारण इस निर्णय को वापस लेना पड़ा था। यहां तक कि कई नेताओं ने जनता के विरोध के साथ खड़े होकर स्मार्ट मीटरों को घरों से उखाड़कर होली जलाने का काम किया था। अब राजस्थान की कांग्रेस सरकार पुराने कड़े अनुभवों को भूलकर जयपुर शहर में इस प्रयोग को दोहराना चाहती है।

चतुर्वेदी ने कहा कि राज्य सरकार जहां इसके माध्यम से कीमतों में बेतहाशा वृद्धि करेगी वहां मीटरों की खरीद की कीमत जो की सिंगल फेस के लिए 2500 रुपए व थ्री फेज के स्मार्ट मीटर के लिए 4000 रुपए वसूलने का निर्णय भी कर चुकी है। चतुर्वेदी ने आरोप लगाया कि सरकार ने जीनस कंपनी को तय कीमत से दोगुनी कीमत पर स्मार्ट मीटर की सप्लाई का आदेश भी दे दिया है। पूर्व मंत्री चतुर्वेदी ने राज्य सरकार के इस जनविरोधी निर्णय को वापस लेने की मांग करते हुए सरकार को चेतावनी दी है कि अगर सरकार ने इस निर्णय को वापस नहीं लिया तो भारतीय जनता पार्टी बड़ा जन-आंदोलन करने के लिए विवश होगी।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned