स्मार्ट फोन लगाएगा टिड्डियों पर अंकुश

शोधकर्ताओं का दावा, एप से पाई जा सकती है टिड्डियों की जानकारी

जयपुर।
हाल ही में राजस्थान के पश्चिम जिलों, बीकानेर, बाड़मेर, जैसलमेर में टिड्डियों के कहर के कारण किसानों को बहुत परेशानी का सामना करना पड़ा था। इससे न केवल किसानों को मानसिक परेशानी हुई बल्कि उनकी फसलें नष्ट हो जाने से उन्हें आर्थिक समस्याओं का भी सामना करना पड़ा। हालांकि टिड्डियों पर नियंत्रण के लिए सरकार के स्तर पर काफी प्रयास किए गए लेकिन लाखों की संख्या में टिड्डियों के हमले के कारण फसलों को बहुत नुकसान हुआ। टिड्डी दलों से निपटने के लिए कीटनाशकों का भी प्रयोग किया गया लेकिन यह उतना कारगर नही हुआ।
लेकिन तकनीक के इस बदलते दौर में टिड्डियों पर नियंत्रण के लिए वैज्ञानिकों ने भी कमर कस ली है। हाला ही में शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि अब स्मार्ट फोन की बदौलत टिड्डियों से पार पाई जा सकती है। यह सब स्मार्ट फोन में चलने वाले एप से संभव हो सकेगा। मैस्ट्रो नामक विशेष एप स्मार्टफोन के कैमरे के माध्यम से टिड्डियों और कीटों की पहचान कर सकता है। इससे टिड्डियों के जीपीएस लोकेशन को रिकॉर्ड करने की क्षमता है। यह एप ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ लिंकन के शोधकर्ताओं की टीम ने बनाया है।
इस एप से उन किसानों को राहत मिलेगी जिनकी फसलों को टिड्डियों के झुंड नष्ट कर देते हैं। हाल ही में संयुक्त राष्ट्र ने भी टिड्डियों के आतंक से बचने के लिए तेजी से कार्रवाई करने की बात कही है। यह शोध साइंटिफिक रिपोट्र्स नामक पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।
इस एप के माध्यम से किसान यह जान सकता है कि टिड्डियां कहा है, उनकी जगह और उनकी संख्या कितनी है। इससे किसान यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि फसलों को बचाने के लिए कितनी मात्रा में कीटनाशक का उपयोग किया जाए तथा उन्हें फैलने से कैसे रोका जाए। अध्ययन का नेतृत्व लिंकन विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ़ कंप्यूटर साइंस के डॉ. बशीर अल-दरी ने किया है। उन्होंने कहा कि हर साल, लगभग 1.8 करोड़ हेक्टेयर भूमि टिड्डियों और ग्रासशोप्पेर्स के कारण क्षतिग्रस्त हो जाती है, जिसका किसानों और उनकी उत्पादकता पर काफी असर पड़ता है। शोधकर्ताओं नें कहा कि, हमारा लक्ष्य किसानों को उनकी जमीन पर टिड्डों को फैलने से रोकना है।
नए सॉफ्टवेयर को बनाने के लिए, वैज्ञानिकों की टीम ने ऐप के सिस्टम को प्रशिक्षित करने के लिए 3,500 से अधिक टिड्डों के चित्रों को इक_ा किया। साथ ही ऐप विभिन्न प्रकार के इलाकों और पौधों को भी पहचान सकता है।

Show More
Suresh Yadav Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned