कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए चरक भवन को बनाया गया 'कोरोना ओपीडी एंड केयर यूनिटÓ

- एसएमएस में कोरोना के 500 रोगियों को किया जा सकेगा भर्ती

जयपुर. कोरोना वायरस से पीडि़त और संदिग्ध मरीजों को तुरंत राहत देने के लिए राज्य सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए एसएमएस स्थित 'चरक भवनÓ को कोरोना ओपीडी एंड केयर यूनिट बनाने का अहम फैसला लिया है। एसएमएस में वर्तमान लगभग 20 वार्ड को खाली करवाकर कोरोना पॉजिटिव मरीजों के लिए 500 बैड की व्यवस्था के आदेश जारी किए गए हैं। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने बताया कि कोरोना से पीडि़तों को एक ही जगह पर सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए यह निर्णय लिया गया है। उन्होंने बताया कि 23 बैड का आइसीयू भी कोरोना से पीडि़त मरीजों के लिए आरक्षित रखा जाएगा। इसके अलावा यहां 30 बैड के वैकल्पिक आइसीयू की भी व्यवस्था की जाएगी। साथ ही यहां 30 वेंटिलेटर भी उपलब्ध कराए जाएंगे। उन्होंने बताया कि एसएमएस में अब सामान्य सर्जरी नहीं की जाएगी । एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सुधीर भंडारी ने बताया कि एसएमएस में पहले से भर्ती मरीजों की स्क्रीनिंग कर उन्हें या तो डिस्चार्ज कर दिया जाएगा या फिर उन्हें किसी अन्य वार्ड में स्थानांतरित किया जाएगा।
डॉ. भंडारी ने बताया कि मुख्य भवन के 20 वार्ड में करीब 500 कोरोना प्रभावित व्यक्तियों को भर्ती करने की व्यवस्था की गई है। चरक भवन के प्रथम और द्वितीय तल कोरोना संदिग्ध रोगियों के लिए आइपीडी बनाई जाएगी। उन्होंने बताया कि एसएमएस में विभिन्न विभागों की यूनिट्स को मर्ज कर एक विभाग बनाया जा रहा है।

Avinash Bakolia Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned