एसएमएस हॉस्पिटल स्टाफ और चिकित्सकों की लापरवाही, परेशानी झेल रहे मरीज

अस्पताल प्रशासन ने धन्वंतरी भवन से आरआरसी तक कर रखा है नो-पार्किंग जोन घोषित, स्टाफ और चिकित्सक कर रहे हैं अपने वाहन पार्क

जयपुर. यह कुछ तस्वीरें हैं सवाई मानसिंह अस्पताल के नो पार्किंग जोन की, जहां कोई भी आराम से अपनी गाड़ी पार्क कर सकता है। कोई रोकने-टोकने वाला नहीं है। अस्पताल का स्टाफ और चिकित्सकों ने इसे पार्किंग जोन बना लिया है। इसका खामियाजा अस्पताल में आने वाले मरीजों को उठाना पड़ रहा है।

हाल में धन्वंतरी ओपीडी में आने वाले मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण अस्पताल प्रशासन ने धन्वंतरी भवन से आरआरसी तक नो पार्किंग जोन घोषित किया गया है। इसके लिए अस्पताल अधीक्षक की ओर से सभी अधिकारी, कर्मचारी, सुरक्षा एजेंसियों को निर्देशित किया गया है कि पार्किंग जोन में किसी प्रकार का वाहन खड़ा नहीं हो। यदि ऐसा पाया गया तो वाहनों को ट्रैफिक पुलिस के सुपुर्द कर दिया जाएगा। इसके बाद भी यहां वाहन खड़े किए जा रहे हैं। प्रशासन की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। अस्पताल प्रशासन भी मानता है कि नो-पार्किंग में गाडिय़ां खड़ी होने से मरीजों को दिक्कत होती है।

बोर्ड की अनदेखी

अस्पताल प्रशासन की ओर से अस्पताल के मुख्य बिल्डिंग के नीचे भूतल में, धन्वंतरी के पास और ट्रोमा में इमरजेंसी के नीचे पार्किंग की व्यवस्था की गई है। इसके बाद भी चिकित्सक और यहां आने वाले लोग नो-पार्किंग में गाडिय़ां खड़ी कर रहे हैं। इतना ही नहीं अस्पताल की ओर से जगह-जगह नो पार्किंग के बोर्ड लगाकर इतिश्री कर ली गई है। कार्रवाई के नाम पर आजतक कुछ नहीं हुआ है।

अस्पताल में पार्किंग की जगह कम है। इस वजह से किसी को नो-पार्किंग में गाड़ी खड़ी करने से मना नहीं कर सकते। हालांकि मरीजों को इससे परेशानी होती है।

- डॉ. सुनील महावर, एसोसिएट प्रोफेसर, मेडिसिन, एसएमएस

Deepshikha Vashista Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned