आप खर्राटे से बचेंगे, दूसरे सुकून की नींद लेंगे

आप अगर खर्राटे लेकर दूसरों की नींद में खलल डालते हैं तो यह उपाय अपनाएं और खुद भी आराम से सोएं और दूसरों को भी आराम की नींद सोने दें।

खर्राटे से बचने में पेपरमिंट ऑयल फायदेमंद होता हैै। पेपरमिंट ऑयल नाक के पैसेज को खोलने और गले के मोटे टीशूज को सिकोडऩे में मदद करता है। ऑयल की दो से तीन बूंदें हाथ में लेकर रोजाना सूंघें। पीठ के बल सोते हैं, तो इस मुद्रा में आपके गले और जीभ पर ज्यादा दबाव बनता है और खर्राटे आते हंै। ऐसे में बेहतर यह है कि आप करवट लेकर सोएं। खर्राटे से बचने के लिए रात को सोते समय मन को शांत व मस्तिष्क को बाहरी विचारों से मुक्त रखकर सोना चाहिए।
पानी की कमी से भी खर्राटे आते है। जब शरीर में पानी की कमी होती है तो नाक के रास्ते की नमी सूख जाती है। ऐसे में साइनस हवा की गति को श्वास तंत्र में पहुंचने के बीच में सहयोग नहीं कर पाता और सांस लेना कठिन हो जाता है।

करवट से सोएं धूम्रपान से खर्राटों की संभावना अधिक होती है। धूम्रपान वायुमार्ग की झिाल्ली में परेशानी पैदा करता है और इससे नाक और गले में हवा पास होना रूक जाती है। इसलिए अगर आपको खर्राटों की समस्या हैं तो धूम्रपान छोड़ दें। नींद की गोलियांं मांसपेशियों पर विपरीत प्रभाव डालती है। सोने के लिए अगर आप शराब, नींद की गोलियों आदि का इस्तेमाल करते है तो इन्हें बंद कर देना चाहिए। इससे भी खर्राटे आते है। नियमित रूप से एक ही समय पर सोएं। सोते समय अपने शरीर को पूर्ण आराम दें तथा सोते समय ध्यान रखें कि किसी भी अंग पर जोर न पड़ें।

Chand Sheikh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned